जानिए आखिर क्यों कहा जाता है गंगा माता को जाह्नवी

कथा- इसके अनुसार एक बार गंगाजी तीव्र गति से बह रही थी. उस समय जह्नु भगवान के ध्यान में लीन थे. उस समय गंगाजी भी अपनी गति से बह रही थी. उस समय जह्नु ऋषि के कमंडल और अन्य सामान भी वहीं पर रखा था. जिस समय गंगाजी जह्नु ऋषि के पास से गुजरी तो वह उनका कमंडल और अन्य सामान भी अपने साथ बहा ले गई.

जब जह्नु ऋषि की आंख खुली तो अपना सामान न देख वे क्रोधित हो गए. उनका क्रोध इतना गहरा था कि अपने गुस्से में वे पूरी गंगा को पी गए, जिसके बाद भगीरथ ऋषि ने जह्नु ऋषि से आग्रह किया कि वे गंगा को मुक्त कर दें. जह्नु ऋषि ने भगीरथ ऋषि का आग्रह स्वीकार किया और गंगाजी को अपने कान से बाहर निकाला.जिस समय यह घटना घटी थी, उस समय वैशाख पक्ष की सप्तमी तिथि थी, इसलिए इस दिन से गंगा सप्तमी मनाई जाती है. इस दिन को गंगा का दूसरा जन्म माना और कहा भी जाता है. अत: जह्नु की कन्या होने की कारण ही गंगाजी को ‘जाह्नवी’ कहते हैं.

गुप्त नवरात्रि के छठा दिन में जाने कैसे मां दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की पूजन विधि
आखिर क्यों युधिष्ठिर को जुआ खेलने से नहीं रोका श्रीकृष्ण ने, पढ़े पूरी कथा

Check Also

चैत्र नवरात्रि की रामनवमी के अगले दिन है कामदा एकादशी, बन रहें हैं पूजा के सात शुभ मुहूर्त

सनातन धर्म में एकादशी का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है. मान्यता है कि एकादशी का …