नवरात्रि : नवरात्र की 9 देवी और उनके मंत्र…

नवरात्रि का त्यौहार 9 दिनों का होता है. इस दौरान हर दिन अलग-अलग देवी की पूजा का विधान है. बता दें कि साल में दो बार नवरात्र आते हैं. जिन्हें छोटे नवरात्र और बड़े नवरात्र के नाम से जाना जाता है. ऐसे में 9 दिन की 9 देवी और 9 उनके मन्त्रों के बारे में भी जानना जरूरी है.

नवरात्र की 9 देवी और उनके मंत्र…

(1) माता शैलपुत्री : 

नवरात्रि का पहला दिन माता शैलपुत्री को समर्पित होता है. मूलाधार में माता का ध्यान कर इनके मंत्र को जपा जाता है. माता शैलपुत्री का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं शैलपुत्र्यै नम:’ है.

(2) माता ब्रह्मचारिणी :

नवरात्रि का दूसरा दिन माता ब्रह्मचारिणी को समर्पित होता है. इस दिन माता ब्रह्मचारिणी के पूजन से संयम, तप, वैराग्य तथा विजय की प्राप्ति होती है. माता ब्रह्मचारिणी का मन्त्र मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं ब्रह्मचारिण्यै नम:’ है.

(3) माता चन्द्रघंटा : 

नवरात्र का तीसरा दिन माता चन्द्रघंटा को समर्पित होता है. कष्टों से मुक्ति तथा मोक्ष प्राप्ति के देवी का पूजन किया जाता है. माता चन्द्रघंटा का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चन्द्रघंटायै नम:’ है.

(4) माता कूष्मांडा : 

नवरात्र का चौथा दिन माता माता कूष्मांडा को समर्पित होता है. रोग, दोष, बल, आयु की दात्री माता कूष्मांडा मानी गई हैं. माता कूष्मांडा का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कूष्मांडायै नम:’ है.

(5) माता स्कंदमाता : 

नवरात्रि का पांचवां दिन माता स्कंदमाता को समर्पित होता है. माता स्कंदमाता सुख-शांति व मोक्ष प्रदान करती है. माता स्कंदमाता का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं स्कंदमातायै नम:’ है.

(6) माता कात्यायनी :

नवरात्रि का छठा दिन माता कात्यायनी को समर्पित होता है. माता कात्यायनी भय, रोग, शोक-संतापों से मुक्ति तथा मोक्ष प्रदान करती है. माता कात्यायनी का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कात्यायनायै नम:’ है.

(7) माता कालरात्रि :

नवरात्रि का सातवां दिन माता कालरात्रि को समर्पित होता है. माता कालरात्रि शत्रुओं का नाश, कृत्या बाधा दूर करने के लिए जानी जाती है. माता कालरात्रि अपने भक्तों को सुख-शांति प्रदान करती हैं. माता कालरात्रि कामंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कालरात्र्यै नम:’ है.

(8) माता महागौरी : 

नवरात्रि का आठवां दिन माता माता महागौरी को समर्पित होता है. माता महागौरी असंभव से असंभव कार्य भी पूर्ण कर देती है. माता महागौरी का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महागौर्ये नम:’ है.

(9) माता सिद्धिदात्री : 

नवरात्रि का नौवा दिन माता सिद्धिदात्री को समर्पित होता है. सिद्धिदात्री माता हमें सभी सिद्धियां देती है. सिद्धिदात्री माता का मंत्र- ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं सिद्धिदात्यै नम:’ है.

जानिए क्यों की जाती है है पूजा के अंत में आरती, क्या है इसका महत्व....
गणेशोत्सव पर इस विधि से श्री गणेश की करें स्थापना

Check Also

महाभारत: इस कारण तीरों की शैया पर भीष्म को पड़ा था सोना, कर्म कभी नहीं छोड़ते पीछा

जीवन में कभी भी बुरे कर्म न करें अन्यथा किसी न किसी जन्म में कर्मफल …