करवा चौथ के दिन जरूर पढ़े ये कथा और करे आरती

कल यानी 4 नवंबर 2020 को करवा चौथ का पर्व मनाया जाने वाला है। यह एक महत्वपूर्ण व्रत है जिसे सुहागिन महिलाएं बहुत बेहतरीन अंदाज में करती हैं। वैसे आप जानते ही होंगे कि यह व्रत ना केवल पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है बल्कि इस व्रत से पति और पत्नी दोनों के बीच प्यार भी बढ़ता है। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं करवा चौथ की व्रत कथा और आरती जिसे आपको रात में पूजा के दौरान पढ़ना और गाना चाहिए।

करवा चौथ कथा- देवी करवा अपने पति के साथ तुंगभद्रा नदी के पास रहती थीं। एक दिन करवा के पति नदी में स्नान करने गए तो एक मगरमच्छ ने उनका पैर पकड़ लिया और नदी में खिंचने लगा। मृत्यु करीब देखकर करवा के पति करवा को पुकारने लगे। करवा दौड़कर नदी के पास पहुंचीं और पति को मृत्यु के मुंह में ले जाते मगर को देखा। करवा ने तुरंत एक कच्चा धागा लेकर मगरमच्छ को एक पेड़ से बांध दिया। करवा के सतीत्व के कारण मगरमच्छा कच्चे धागे में ऐसा बंधा की टस से मस नहीं हो पा रहा था। करवा के पति और मगरमच्छ दोनों के प्राण संकट में फंसे थे। करवा ने यमराज को पुकारा और अपने पति को जीवनदान देने और मगरमच्छ को मृत्युदंड देने के लिए कहा। यमराज ने कहा मैं ऐसा नहीं कर सकता क्योंकि अभी मगरमच्छ की आयु शेष है और तुम्हारे पति की आयु पूरी हो चुकी है। क्रोधित होकर करवा ने यमराज से कहा, अगर आपने ऐसा नहीं किया तो मैं आपको शाप दे दूंगी। सती के शाप से भयभीत होकर यमराज ने तुरंत मगरमच्छ को यमलोक भेज दिया और करवा के पति को जीवनदान दिया। इसलिए करवाचौथ के व्रत में सुहागन स्त्रियां करवा माता से प्रार्थना करती हैं कि हे करवा माता जैसे आपने अपने पति को मृत्यु के मुंह से वापस निकाल लिया वैसे ही मेरे सुहाग की भी रक्षा करना। करवा माता की तरह सावित्री ने भी कच्चे धागे से अपने पति को वट वृक्ष के नीचे लपेट कर रख था। कच्चे धागे में लिपटा प्रेम और विश्वास ऐसा था कि यमराज सावित्री के पति के प्राण अपने साथ लेकर नहीं जा सके। सावित्री के पति के प्राण को यमराज को लौटाना पड़ा और सावित्री को वरदान देना पड़ा कि उनका सुहाग हमेशा बना रहेगा और लंबे समय तक दोनों साथ रहेंगे।

करवा चौथ की आरती –

ओम जय करवा मैया, माता जय करवा मैया।
जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया।। ओम जय करवा मैया।

सब जग की हो माता, तुम हो रुद्राणी।
यश तुम्हारा गावत, जग के सब प्राणी।। ओम जय करवा मैया।

कार्तिक कृष्ण चतुर्थी, जो नारी व्रत करती।
दीर्घायु पति होवे , दुख सारे हरती।। ओम जय करवा मैया।

होए सुहागिन नारी,  सुख संपत्ति पावे।
गणपति जी बड़े दयालु, विघ्न सभी नाशे।। ओम जय करवा मैया।

करवा मैया की आरती, व्रत कर जो गावे।
व्रत हो जाता पूरन, सब विधि सुख पावे।।  ओम जय करवा मैया।

आइये जाने किस दिन होती है यमराज की पूजा
इस वर्ष दिवाली से पहले दो दिन के लिए आ रहा है पुष्य नक्षत्र, जानिए....

Check Also

आइये जानें रामायण से जुडी यें कथा

आप सभी ने कई बार रामायण का पाठ किया होगा। ऐसे में आज हम आपको …