अगर नहीं हो रही संतान तो षष्ठी देवी स्तोत्र का करे पाठ

आज छठ पूजा का आखिरी दिन कहा जा सकता है क्योंकि आज उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया गया है. ऐसे में आज हम लेकर आए हैं षष्ठी देवी स्तोत्र. कहा जाता है जो लोग निसंतान हो उन्हें इसका जाप करना चाहिए. आज के दिन अगर षष्ठी देवी स्तोत्र को पढ़ा जाए तो संतान घर में आने की संभावना बढ़ जाती है. कहा जाता है संतान के इच्छुक दंपत्ति को शालिग्राम शिला, कलश, वटवृक्ष का मूल अथवा दीवार पर लाल चंदन से षष्ठी देवी की आकृति बनाकर उनका पूजन प्रतिदिन करना चाहिए। इसी के साथ षष्ठी देवी स्तोत्र का पाठ करना चाहिए. तो आइए हम आपको बताते हैं षष्ठी देवी स्तोत्र.

षष्ठी देवी स्तोत्र –

नमो देव्यै महादेव्यै सिद्ध्यै शान्त्यै नमो नम:।
शुभायै देवसेनायै षष्ठी देव्यै नमो नम: ।।
वरदायै पुत्रदायै धनदायै नमो नम:।
सुखदायै मोक्षदायै षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
शक्ते: षष्ठांशरुपायै सिद्धायै च नमो नम:।
मायायै सिद्धयोगिन्यै षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
पारायै पारदायै च षष्ठी देव्यै नमो नम:।
सारायै सारदायै च पारायै सर्व कर्मणाम।।
बालाधिष्ठात्री देव्यै च षष्ठी देव्यै नमो नम:।
कल्याणदायै कल्याण्यै फलदायै च कर्मणाम।
प्रत्यक्षायै च भक्तानां षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
पूज्यायै स्कन्दकांतायै सर्वेषां सर्वकर्मसु।
देवरक्षणकारिण्यै षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
शुद्ध सत्त्व स्वरुपायै वन्दितायै नृणां सदा।
हिंसा क्रोध वर्जितायै षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
धनं देहि प्रियां देहि पुत्रं देहि सुरेश्वरि।
धर्मं देहि यशो देहि षष्ठी देव्यै नमो नम:।।
भूमिं देहि प्रजां देहि देहि विद्यां सुपूजिते।
कल्याणं च जयं देहि षष्ठी देव्यै नमो नम:।।

शनि देव की आराधना से सभी कष्ट होंगे दूर, इनका पूजन करना होता है विशेष फलदायी
राशि के अनुसार सूर्य मन्त्रों का करे जाप, यश, सुख, समृद्धि की होगी प्राप्ति

Check Also

नारद मुनि करना चाहते है विवाह, गुस्से में दिया था श्री विष्णु को श्राप

आप जानते ही होंगे नारद मुनि को ब्रह्मा जी की मानस संतान माना गया है. …