वर्ष 2021 में गृह प्रवेश के मुहूर्त

यदि आप घर खरीद रहे हैं या आपका घर बनकर तैयार है तो आप सोच रहे होंगे कि किस मुहूर्त में गृह प्रवेश करना चाहिए। यहां प्रस्तुत के वर्ष 2021 में गृह प्रवेश करने के कुछ खास मुहूर्त और योग।

1.गृह प्रवेश के माह : माघ, फाल्गुन, वैशाख, ज्येष्ठ उत्तम माह है। आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद और आश्विन के साथ ही पौष माह में गृह प्रदेश नहीं करना चाहिए।
2.गृह प्रवेश की तिथि : अमावस्या, पूर्णिमा, पंचक, कृष्‍ण पक्ष और ग्रहण आदि को छोड़कर शुक्ल पक्ष की द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी तिथि को गृह प्रवेश करना शुभ होता है।
3.गृह प्रवेश का वार : मंगलवार और कुछ विशेष परिस्थिति में रविवार एवं शनिवार को छोड़कर सभी वारों को गृह प्रवेश किया जा सकता है।
4.स्थिर लग्न : गृह प्रवेश हमेशा स्थिर लग्न में करने से शुभ होता है। किसी पंडित से लग्न पूछकर यह कार्य करें। वैसे प्रवेश के समय आपके जन्म नक्षत्र से सूर्य की स्थिति पांचवें में अशुभ, आठवें में शुभ, नौवें में अशुभ और छठवे में शुभ होती है।
6.शुभ मुहूर्त : शुभ मुहूर्त में रुद्र, श्‍वेत, मित्र, सारभट, सावित्र, वैराज, विश्वावसु, अभिजित, रोहिण, बल, विजय, र्नेत, वरुण सौम्य और भग ये 15 मुहूर्त है। रवि के दिन 14वां, सोमवार के दिन 12वां, मंगलवार के दिन 10वां, बुधवार के दिन 8वां, गुरु के दिन 6टा, शुक्रवार के दिन 4था और शनिवार के दिन दूसरा मुहूर्त कुलिक शुभ कार्यों में वर्जित हैं।
7.वर्ष 2021 के मुहूर्त : जनवरी में 5, 6, 8, 14, 17, 26 और 30 तारीख को शुभ तिथियां हैं। फरवरी में 12, 14, 16, 20, 23 और 28 तारीख को शुभ तिथियां हैं। मार्च में 8, 9, 14, 20, 21, 24 और 26 तारीख को शुभ तिथियां हैं। अप्रैल में 1, 11 और 20 तरीख को शुभ तिथियां हैं। मई में 6, 8, 10, 12, 16, 18, 20, 21 और 30 तारीख को शुभ तिथियां हैं। जून में 2, 3, 10, 12, 15, 16, 21, 22, 25 और 27 तारीख को शुभ तिथियां हैं। जुलाई को 3, 4, 13, 25, 20, 22, 25, 26 और 31 को शुभ तिथियां हैं। अगस्त में 6, 7, 8, 9, 12, 16, 20, 27 और 28 तारीख को शुभ तिथियां हैं।
सितंबर में 2, 4, 8, 13, 14, 17, 19, 20, 22, 25, 26 और 29 तारीख को शुभ तिथियां हैं। अक्टूबर में 1, 9, 10, 12, 14, 15, 18, 21, 23, 25 और 26 को शुभ तिथियां। नवंबर को 2, 8, 10, 11, 12, 20, 22, 23, 24 और 26 तारीख को शुभ तिथियां हैं। दिसंबर में 4, 5, 10, 13, 15, 18, 19, 22, 25 और 31 तारीख को शुभ तिथियां हैं। परंतु गृहप्रवेश के लिए मुहूर्त और योग भी देखेंगे तो अच्छा होगा। वैसे 9 जनवरी, 13 मई, 14 मई, 21 मई, 22 मई, 24 मई, 26 मई, 4 जून, 5 जून, 10 जून, 11 जून, 19 जून, 26 जून, 1 जुलाई, 7 जुलाई, 5 नवंबर, 6 नवंबर, 10 नवंबर, 20 नवंबर, 29 नवंबर, 13 दिसंबर और 31 दिसंबर को गृह प्रवेश के खास दिन हैं। इसमें चौघड़ियां, नक्षत्र या मुहूर्त जरूर देख लें।
मुहूर्तों के नाम : एक मुहूर्त 2 घड़ी अर्थात 48 मिनट के बराबर होता है। 24 घंटे में 1440 मिनट होते हैं:- मुहूर्त सुबह 6 बजे से शुरू होता है:- रुद्र, आहि, मित्र, पितॄ, वसु, वाराह, विश्वेदेवा, विधि, सतमुखी, पुरुहूत, वाहिनी, नक्तनकरा, वरुण, अर्यमा, भग, गिरीश, अजपाद, अहिर, बुध्न्य, पुष्य, अश्विनी, यम, अग्नि, विधातॄ, क्ण्ड, अदिति जीव/अमृत, विष्णु, युमिगद्युति, ब्रह्म और समुद्रम।
शुभ मुहूर्त क्या है?
मुहूर्त दो तरह के होते हैं शुभ मुहूर्त और अशुभ मुहूर्त। शुभ को ग्राह्य समय और अशुभ को अग्राह्‍य समय कहते हैं। शुभ मुहूर्त में रुद्र, श्‍वेत, मित्र, सारभट, सावित्र, वैराज, विश्वावसु, अभिजित, रोहिण, बल, विजय, र्नेत, वरुण सौम्य और भग ये 15 मुहूर्त है। …रवि के दिन 14वां, सोमवा रके दिन 12वां, मंगलवार के दिन 10वां, बुधवार के दिन 8वां, गुरु के दिन 6टा, शुक्रवार के दिन 4था और शनिवार के दिन दूसरा मुहूर्त कुलिक शुभ कार्यों में वर्जित हैं।
योग क्या है?
सूर्य-चन्द्र की विशेष दूरियों की स्थितियों को योग कहते हैं। योग 27 प्रकार के होते हैं। दूरियों के आधार पर बनने वाले 27 योगों के नाम क्रमश: इस प्रकार हैं- 1.विष्कुम्भ, 2.प्रीति, 3.आयुष्मान, 4.सौभाग्य, 5.शोभन, 6.अतिगण्ड, 7.सुकर्मा, 8.धृति, 9.शूल, 10.गण्ड, 11.वृद्धि, 12.ध्रुव, 13.व्याघात, 14.हर्षण, 15.वज्र, 16.सिद्धि, 17.व्यतिपात, 18.वरीयान, 19.परिध, 20.शिव, 21.सिद्ध, 22.साध्य, 23.शुभ, 24.शुक्ल, 25.ब्रह्म, 26.इन्द्र और 27.वैधृति।
27 योगों में से कुल 9 योगों को अशुभ माना जाता है तथा सभी प्रकार के शुभ कामों में इनसे बचने की सलाह दी गई है। ये 9 अशुभ योग हैं- विष्कुम्भ, अतिगण्ड, शूल, गण्ड, व्याघात, वज्र, व्यतिपात, परिध और वैधृति। इन्हें छोड़कर अन्य किसी भी योग में कोई भी कार्य मुहूर्त देखकर किया जा सकता है।
गुरु-पुष्य योग : गुरुवार और पुष्य नक्षत्र के संयोग से निर्मित होने के कारण इस योग को गुरु-पुष्य योग के नाम से जाना जाता है। यह योग गृह प्रवेश, गृह शांति, शिक्षा सम्बन्धी मामलों के लिए अत्यंत श्रेष्ठ माना जाता है। यह योग अन्य शुभ कार्यों के लिए भी शुभ मुहूर्त के रूप में जाना जाता है।
विशेष मुहूर्त योग : सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि, गुरुपुष्यामृत और रविपुष्यामृत योग। यदि सोमवार के दिन रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा तथा श्रवण नक्षत्र हो तो सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण होता है। शुभ मुहूर्तों में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त माना जाता है- गुरु-पुष्य योग। यदि गुरुवार को चन्द्रमा पुष्य नक्षत्र में हो तो इससे पूर्ण सिद्धिदायक योग बन जाता है। जब चतुर्दशी सोमवार को और पूर्णिमा या अमावस्या मंगलवार को हो तो सिद्धिदायक मुहूर्त होता है।
आपने नहीं पढ़ी होगी भगवान दत्तात्रेय के जन्म की यह गोपनीय कथा
रवि प्रदोष व्रत की पौराणिक कथा यहां पढ़ें

Check Also

इस द्रव्य के दुरुपयोग से बचें, माँ लक्ष्मी होती हैं नाराज

क्षीर सागर निवासरत जगत पालक श्रीहरि विष्णु की भार्या लक्ष्मी जी को जल से विशेष …