जानिये गाय के किस अंग में है किस देवता का वास

Cows-mathura2पद्म पुराण के अनुसार गाय के मुख में चारों वेदों का निवास है। उसके सींगों में भगवान शंकर और विष्णु सदा विराजमान रहते हैं। गाय के उदर में कार्तिकेय, मस्तक में ब्रह्मा, ललाट में रुद्र, सींगों के अग्र भाग में इन्द्र, दोनों  कानों में अश्वनीकुमार, नेत्रों में सूर्य और चन्द्र, दांतों में गरुड़, जिह्वा में सरस्वती, अपना गुदा में सारे तीर्थ, मूत्र स्थान में गंगा, रोमकूपों में ऋषिगण, पृष्ठ भाग में वरुण एवं कुबेर, वाम पार्श्व में महाबली यक्ष, मुख के भीतर गंधर्व, नासिका के अग्रभाग में सर्प, खुरों के पिछले भाग में अप्सराएं स्थित हैं। इसके अलावा गाय के गोबर में लक्ष्मी, गोमूत्र में भवानी, चरणों के अग्रभाग में आकाशचारी देवता, रंभाने की आवाज में प्रजापति और थनों में समुद्र प्रतिष्ठित है।

 

 

क्यों मनाया जाता है छठ पर्व, क्या है इसका वैज्ञानिक रहस्य?
मृत्यु से पहले जीवन की इस चीज को भी नष्ट करती है अग्नि

Check Also

श्री राम की यह आरती देगी आपको कीर्ति

आरती आपके द्वारा की गई पूजा में आई छोटी से छोटी कमी को दूर कर …