महाकाल की नगरी में अब शिवजी देंगे अनेक रूपों में दर्शन

phpThumb_generated_thumbnail-2-16-300x214उज्जैन। मध्यप्रदेश में महाकाल की नगरी के रूप में पहचाने जाने वाले उज्जैन में जल्द ही भगवान शिव की सभी रूपों की प्रतिमाएं देखी जा सकेंगी। यहां बन रहे इंटरप्रीटेशन संटर में प्रदेश के सभी महत्वपूर्ण संग्रहालयों की दुर्लभ पाषाण प्रतिमाएं भी दिखाई देंगी। 
 
पुरातत्व विभाग अधिकारी रमेश यादव ने बताया कि प्रदेश में यह एकमात्र ऐसा केंद्र होगा, जहां पहली ईसा पूर्व से 19वीं शताब्दी तक की पाषाण प्रतिमाएं होंगी। इस केंद्र में शिव से संबंधित सभी मूर्तियां देखी जा सकती हैं। 
 
यहां शिव का शृंगार रूप, रौद्र रूप और सौम्य रूप सहित नटराज प्रतिमा भी उपलब्ध होगी। इस केंद्र में शुंगकाल, गुप्तकाल और विक्रमादित्य काल की भी महत्वपूर्ण दुर्लभ प्रतिमाएं लगाई जा रही हैं। 
  
इसी केंद्र में महाकाल की प्रतिमा वाले सिक्के भी प्रदर्शित होंगे। आधिकारिक जानकारी के अनुसार इस केंद्र में दुर्गायन दीर्घा में मां दुर्गा के रूपों का वर्णन भी नजर आएगा। 
 माहेश्वरी ब्राह्मणी, कौमारी, इंद्री, चामुण्डा, विनायकी के अतिरिक्त मां दुर्गा के विविध रूपों की मूर्तियां होंगी। यहां पर पन्ना के नानचाड़ और मंदसौर के आवरा स्थान से प्राप्त महिषासुर मर्दिनी की मूर्ति भी होगी।  
जबकि कृष्णायन दीर्घा में अवतारवाद विष्णु के विभिन्न रूपों की मूर्तियां व विश्वरूप के दिग्दर्शन भी प्रदर्शित किए जाएंगे। 
ऐसा है कामदेव का धनुष, इसकी मार से आप भी हो जाएंगे प्रेम से घायल
होली का डांडा रोपने के साथ बहेगी फाल्गुन की बयार, ये हैं शुभ मुहूर्त

Check Also

भगवान श्री राम के आदर्श चरित्र के बारे में जान खुद पर करें अमल

श्री रामचंद्र जी की सभी चेष्टाएं धर्म, ज्ञान, नीति, शिक्षा, गुण, प्रभाव, तत्व एवं रहस्य …