हनुमान जी की मूर्ति पर क्यों लगाया जाता है सिंदूर?

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के परम भक्त हनुमान जी जिनके स्मरण मात्र से ही सारे नकारात्मक शक्तियां अपने आप ही दूर हो जाती है।जो भी भक्त हनुमान जी का नाम लेता है उसे साहस और बल प्रदान होता है। पवन पुत्र श्री हनुमान जी की पूजा और अर्चना करने से सारे ही भूत और पिशाच दूर हो जाते हैं।

माना जाता है कि अगर प्रभु श्री हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाए तो अत्यधिक प्रसन्न हो जाते हैं। कई बार तो देखा गया है कि लोग अपनी मन्नत पूरी होने के बाद हनुमान जी को चोला और सिंदूर चढ़ाते हैं। परंतु क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों किया जाता है?? क्या कारण है उसके पीछे ????अगर नहीं तो आइए जानते हैं –

रामायण के एक प्रसंग के अनुसार एक बार माता सीता अपनी मांग में सिंदूर लगा रही थी। उसी वक्त श्री हनुमान जी वहां पधारे। उन्होंने सीता माता को देखकर का कहा कि हे मां आप यह सिंदूर अपनी मांग में क्यों सजा जा रही है। तो सीता माता ने उन्हें बताया तो कि यह सिंदूर लगाने से प्रभु श्री राम दीर्घायु हो जाएंगे और मुझसे अत्यधिक प्रसन्न भी।

बस फिर क्या था हनुमान जी को तो बस मौका चाहिए था प्रभु श्री राम को प्रसन्न करने के लिए। वह हमेशा अपने प्रभु को प्रसन्न रखने चाहते थे तो उन्होंने अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया। उन्होंने यह सोचा कि मात्र एक चुटकी भर सिंदूर से अगर प्रभु श्री राम की दीर्घायु हो सकती है तो अगर मैं अपने शरीर को ही सिंदूर से रंग दिया जाये तो वह अमर हो जाएंगे और मुझसे बहुत ही ज्यादा प्रसन्न भी। बस फिर पूरे शरीर पर सिंदूर लगाने के बाद वह प्रभु श्री राम के पास पहुँचे। हनुमान जी को इस तरह सिंदूर में डूबा हुआ देखकर श्री राम जी हंसने लगे और हंसते हुए उन्होंने हनुमान जी से पूछा तुमने यह क्या कर दिया? तो हनुमान जी ने उन्हें सारा किस्सा बताया। यह सब जानकार प्रभु श्री राम अत्यंत ही प्रसन्न हुए। उन्होंने हनुमान से कहां मैं तुम्हारी भक्ति से अत्यंत ही प्रसन्न हुआ हूं। तुम मेरे सच्चे भक्त हो और उन्होंने हनुमान जी को अमर होने का वरदान दे दिया। यह पौराणिक कथा की वजह से ही हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाता है।

यह भी माना जाता है कि यह भी माना जाता है कि अगर हनुमान जी को चढ़ाए हुए पैरो के सिंदूर से सफेद कागज पर एक स्वास्तिक बनाया जाए और उसके दर्शन रोज किए जाएं तो आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाएंगी। यही नहीं अगर आपको नौकरी संबंधित कोई समस्या है तो वह भी दूर हो जाएगी बस इस कागज़ को मोड़े नहीं यथावत अपने पास रखें।

कुछ इस तरह करे हनुमान जी की पूजा
जानिए, हनुमान जी कैसे बन गए श्रीराम के सबसे बड़े भक्त

Check Also

शनि पीड़ा से मुक्ति के कुछ उपाय

भगवान शनि देव का ग्रहों में विशेष स्थान है। दरअसल खगोलीय दृष्टिकोण से शनि ग्रह …