गणेश चतुर्थी : 120 साल बाद ख़ास योग, ऐसे करेंगे मूर्ति स्थापना तो जरूर पूरी होगी मनोकामना

दुनियाभर में इस समय गणेश चतुर्थी उत्सव की तैयारियां चल रहीं हैं. आप सभी को बता दें कि गणेश चतुर्थी उत्सव 13 से 23 सितंबर तक मनाया जाने वाला है. यह त्यौहार सभी के लिए बहुत ख़ास होगा और इस दिन बहुत से लोग अपने घरों में गणेश जी को लेकर आएंगे. आपको बता दें कि इस बार गणेश चतुर्थी उत्सव में सबसे ख़ास बात यह है कि गुरु स्वाति योग बन रहा है. जी हाँ, इस बार ज्योतिष के अनुसार बहुत ही दुर्लभ और शुभ योग है जो करीब 120 साल बाद बन रहा है. इस योग को सबसे दुर्लभ योग माना जाता है और इस दौरान गणेश जी की मूर्ति को स्थापित करना काफी शुभ है.

यह योग घर में सुख-समृद्धि की बरसात करता है और इस बार गणेश जी को बिठाने का दिन भी बृहस्पतिवार है जिसे गुरु का दिन माना जाता है. इस दिन जो नक्षत्र और वार है उसमे गणेश जी को बैठाने से परिवार में शांति बनी रहती है और घर में सुख समृद्धि का वास होता है. आपको बता दें कि भाद्रपद मास की चतुर्थी पर यह संयोग करीब 120 सालों बाद बन रहा है और इस दिन भगवान को घर में लाना बहुत अच्छा होगा. गुरु स्वाति योग में जो भी पुरे मन और श्रद्धा के साथ विधिवत पूजा करेगा उसे मनोवांछित फल मिलेगा.

बृहस्पति को ज्ञान का देवता माना जाता है और वायु देवता जोमनुष्य में पांच प्राण को संतुलित रखते हैं. इस बार ज्योतिष का कहना है कि गणेश जी को स्थापित करने के पहले अपनी मनोकामना उनके सामने रख दें और उसके बाद उन्हें स्थापित कीजिए इससे आपकी मनोकामना जरूर पूरी होगी.

भगवान राम से जुड़ी ऐसी बातें, जिन्‍हें नहीं जानते होंगे आप...
जानिए वाल्मीकि रामायण और तुलसीदास कृत रामचरितमानस में क्या मुख्य अंतर हैं?

Check Also

महालक्ष्मी प्रार्थना : शरद पूर्णिमा पर वैभव, सौभाग्य, आरोग्य, ऐश्वर्य और सफलता देगा स्तोत्र

समस्त ऐश्वर्यों की अधिष्ठात्री और अपार धन सम्पत्तियों को देने वाली महालक्ष्मी की आराधना हर …