हरतालिका तीज आज, महिलाएं भूलकर भी व्रत में न करें ये 5 गलती

भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज मनाई जाती है। इस बार यह 12 सितंबर को है। इस व्रत को कई इलाकों में तीजा भी कहते हैं। इस व्रत को विवाहित महिलाएं अपने अखंड सौभाग्य की कामना के लिए इस व्रत रखती है  वहीं अविवाहित लड़कियां भीअच्छे वर की कामना के लिए भी इस व्रत को रखती है।व्रत कथा
शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए माता पार्वती ने इस व्रत को रखा था, इसलिए इस व्रत का महत्व है। पार्वती जी के तप और आराधना से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने माता पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किया था।

व्रत विधि
-हरतालिका तीज में महिलाएं पूरे दिन बिना जल ग्रहण किए व्रत का पालन करती है और व्रत के अगले दिन जल ग्रहण करती है। हरितालिका व्रत के दिन रात को महिलाएं जागती है और भजन-कीर्तन करती है।

-तीज के दिन महिलाएं बिना कुछ खाए-पीए रहती है। इस व्रत में भगवान शंकर और माता पार्वती की मूर्ति बनाकर उनकी पूजा की जाती है। 

इस व्रत में सुहाग की डिब्बी में सुहाग की सभी चीजों को रखकर माता पार्वती को अर्पित करना चाहिए वहीं शिवजी को धोती और अंगोछा चढ़ाया जाता है।

हरतालिका तीज पर महिलाएं ना ये गलतियां

– हरतालिका तीज व्रत और पूजन करने वाली महिलाओ को इस दिन क्रोध करने से बचना चाहिए।

– तीज व्रत रखने वाली महिलाओं को रात में सोना नहीं चाहिए। महिलाओं को रात भर ईश्वर का ध्यान और भजन करना चाहिए। 

– तीज व्रत रखने वाली महिलाओं को बुजुर्गों का अपमान नहीं करना चाहिए। 

– तीज का उपवास रखने वाली महिलाओं को इस दिन दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। 

– हरतालिका तीज के दिन महिलाओं को भूलकर भी पति से विवाद नहीं करना चाहिए।

गणेश चतुर्थी: 120 साल बाद बनेगा खास योग, ऐसे स्थापित करें प्रतिमा
भगवान राम के ये विग्रह उनके आने से पहले ही पृथ्वी पर आ गए थे

Check Also

महालक्ष्मी प्रार्थना : शरद पूर्णिमा पर वैभव, सौभाग्य, आरोग्य, ऐश्वर्य और सफलता देगा स्तोत्र

समस्त ऐश्वर्यों की अधिष्ठात्री और अपार धन सम्पत्तियों को देने वाली महालक्ष्मी की आराधना हर …