नवरात्रि के 9 दिनों में चढ़ाएं अलग-अलग भोग, खुश हो जाएंगी माँ दुर्गा…

जाने किस दिन कौन सा भोग लगाने से दुर्गा मां होगी प्रसन्न इन दिनों नवरात्र चल रहे हैं और इन दिनों में भक्त नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौं रुपों की पूजा करते है और साथ ही उनसे अपनी बात मानने के लिए भी कहते हैं. ऐसे में माँ को खुश करने के लिए वह तरह-तरह के भोग माता को अर्पित करते हैं ताकि वह उनकी मनोकामना पूरी कर दें. ऐसे में आज हम आपको बता दें कि माता के नौ रूपों में माता के भोग भी अलग-अलग प्रकार के होते हैं. जी हाँ, माता के नौ रूपो में शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा,कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हैं माता को प्रसन्न करने के लिए उनके नाम और दिन के अनुसार माता को भोग भी उनकी पसंद के अनुसार चढ़ाया जाता है तभी वह प्रसन्न होती हैं. तो अब आइये जानते है कौन सी माता को कौन सा भोग अर्पित करना चाहिए.

शैलपुत्री- मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना कर उन्हें शुद्ध देसी घी का भोग चढ़ाना चाहिए.

ब्रह्मचारिणी- इस दिन मां ब्रह्मचारिणी को फल और बतासे क भोग चढ़ाना चाहिए.

चंद्रघंटा – मां चंद्रघंटा को दूध से बनीं चीजों का भोग चढ़ाना चाहिए.

कुष्मांडा- मां कुष्मांडा को मीठे मालपुआ का भोग चढ़ाना चाहिए.

स्कंदमाता- मां स्कंदमाता को पके केले का भोग चढ़ाना चाहिए.

कात्यायनी- मां कात्यायनी को खीर व शहद का भोग चढ़ाना चाहिए.

कालरात्रि- मां कालरात्रि की पूजा कर उन्हें गुड़ से बनी चीजो का भोग चढ़ाना चाहिए.

महागौरी- मां गौरी को घर की बनी आठ छोटी पूरी हलुआ व नारियल चढ़ाना चाहिए.

सिद्धिदात्री- मां सिद्धिदात्री को मिठाई और पंजीरी व पंचमेवा क भोग चढ़ाना चाहिए.

जब मां वैष्णों ने किया भैरो बाबा भैरव का संहार...
यह राम स्तुति सुनकर प्रसन्न हुए बजरंगबली

Check Also

जानिए क्यों युधिष्ठिर के दोनों हाथ जलाना चाहते थे भीम

महाभारत से जुडी ऐसी कई कहानियां है जो लोगों को नहीं पता है. महाभारत में …