11 सोमवार, 11 शिव नाम और 11 अक्षत का करिश्मा…

शिव के 11 चमत्कारी मंत्रप्रत्येक सोमवार को प्रातः सूर्योदय के समय 1 घंटे के भीतर स्नान से निवृत्त हो शुद्धिपूर्वक शिवलिंग पर 11 अक्षत यानी साबुत चावल के दाने ‘श्री राम’ का उच्चारण करते हुए अर्पित करें एवं मन ही मन अपनी विशेष इच्छा का स्मरण करें।


लगातार 11 सोमवार ऐसा करने से अवश्य ही वह कार्य आश्चर्यजनक रूप से संपन्न होगा।प्रत्येक सोमवार को शिवलिंग की पूजा के बाद मन ही मन या रुद्राक्ष माला से कुश आसन पर बैठ इन चमत्कारी मंत्रों का जप करना विलक्षण सिद्धि व मनचाहे लाभ देने वाला होता है-ॐ
अघोराय नम:ॐ पशुपतये नम:ॐ शर्वाय नम:ॐ विरूपाक्षाय नम:ॐ विश्वरूपिणे नम:ॐ त्र्यम्बकाय नम:ॐ कपर्दिने नम:ॐ भैरवाय नम:ॐ शूलपाणये नम:ॐ ईशानाय नम:ॐ महेश्वराय नम: 

आप भी जानिए शिवलिंग की पूजा के ये 8 खास नियम...
नौकरी चाहिए तो भगवान शिव की शरण में आइए. .. 5 अनसुने उपाय

Check Also

तो इस माला से मंत्र का जाप करना होता है लाभकारी

ईश्वर की आराधना में मंत्रों के जाप का विशेष महत्व है. वहीं देवी-देवताओं को प्रसन्न …