बाबा अमरनाथ : सुंदर शीतल वातावरण में बनते प्राकृतिक दिव्य शिवलिंग

फिर यहीं से यात्रा का दूसरा व दुर्गम चरण आंरभ होता है, 13 किमी दूर पंजतरणी की ओर। फिर से शुरू होती है एक ओर कठिन चढ़ाई। महागुनस शिखर की ओर जो 14800 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। इस शिखर पर ऑक्सीजन की कमी है क्योंकि अमरनाथ यात्रा के दौरान यही शिखर सबसे ऊंचा है। ऑक्सीजन की कमी के कारण सांस फूलता है। हालांकि स्थान-स्थान पर चिकित्सा संबंधी सहायता भी उपलब्ध रहती है।

शिखर पर चढ़ने के उपरांत पोशपथरी को पार करके 12500 फुट की ऊंचाई पर भैरव पर्वत के दामन में है पांच नदियों अर्थात् पंजतरणी। यहां पर यात्री रात को विश्राम करते हैं और प्रातःकाल भक्त पवित्र धाराओं में स्नान करके आगे की ओर बढ़ते हैं गुफा की ओर जो पंजतरणी से मात्र 6 किमी की दूरी पर है। पंजतरणी से गुफा तक के मार्ग में पुनः दुर्गम चढ़ाई का सामना करना पड़ता है। लोग सांस लेते, विश्राम करते प्रभु भोले नाथ के दर्शनों की अभिलाषा लिए पवित्र गुफा की ओर बढ़ते हैं। रास्ता भयानक भी है और सुंदर भी। पगडंडी से नीचे नजर जाते ही खाईयों में बहती हिम नदी को देख कर डर लगता है।

फिर एक मोड़ से गुफा का दूर से दर्शन होने पर लोग उत्साहित हो जय-जयकार करते बर्फ के पुल को पार करके पहुंचते हैं पवित्र गुफा के नीचे बहती अमर गंगा के तट पर। यहीं से स्नान करके लोग लगभग 100 फुट चौड़ी तथा 150 फुट लंबी उस पवित्र गुफा में जाते हैं, जहां प्राकृतिक पीठ पर हिम निर्मित शिवलिंग के दर्शन पाकर लोग अपने आप को धन्य समझते हैं। यही हिमलिंग तथा लिंगपीठ ठोस बर्फ का होता है जबकि गुफा के बाहर मीलों तक सर्वत्र कच्ची बर्फ ही मिलती है। गुफा में जहां-तहां पानी की बूंदे टपकती रहती हैं लेकिन शिवलिंग एक विशेष स्थान पर बनता है और यह लिंग चंद्र की कलाओं के साथ घटता-बढ़ता है। पूर्णिमा को पूर्ण और अमावस को विलीन हो जाता है। गुफा में पार्वती तथा तथा गणेश जी के प्रतीक लिंग भी देखने को मिलते हैं और फिर दर्शनों की आस को पूरी कर लोग वापसी की राह पकड़ लेते हैं। वैसे सोनमार्ग-बालटाल से भी एक रास्ता है जिससे एक दिन में यह यात्रा पूरी की जा सकती है।

कैलाश मानसरोवर : अलौकिक, अद्भुत, आश्चर्यजनक है यहां का हर कोना
श्री हनुमानजी का विलक्षण मंत्र, जीवन की हर मुश्किल घड़ी में बनेगा कवच

Check Also

इन बातों को कभी ना करें किसी से साझा, नहीं तो हो सकती है समस्या

आचार्य चाणक्य ने अपने नीति ग्रंथ मतलब चाणक्य नीति में इंसान के जीवन को सरल …