शीतला सप्तमी-अष्टमी : कैसे की जाती है बसौड़ा की पूजा?

इस व्रत में मीठे चावल, हल्दी, चने की दाल और जल लेकर महिलाएं मंदिर जाती हैं। इस पूजा को बसौड़ा या फिर शीतला सप्तमी या अष्टमी कहा जाता है।

इस पूजा में सबसे खास होते हैं बासी मीठे चावल, जिन्हें गुड़ या गन्ने के रस से बनाया जाता है। यही मीठे चावल माता को भी चढ़ाए जाते हैं और यही अगले पूरे दिन खाए जाते हैं। यहां जानें कैसे की जाती है पूजा….

1. सबसे पहले जल्दी सुबह उठकर ठंडे पानी से नहाएं।

2. व्रत का संकल्प लें और शीतला माता की पूजा करें।

3. पूजा और स्नान के वक्त ‘हृं श्रीं शीतलायै नमः’ मंत्र का मन में उच्चारण करते रहें, बाद में कथा भी सुनें।

4. माता को भोग के तौर पर रात को बनाए मीठे चावल चढ़ाएं।

5. रात में माता के गीत गाना न भूलें।

प्रभु श्रीराम ने शबरी के जूठे फल खाए, ऐसी कौन सी विशेषता थी शबरी के फलों में, पढ़ें रोचक आलेख
आरोग्य का आशीष देती हैं शीतला माता, जानिए पौराणिक कथा और इतिहास

Check Also

गुरु नानक जयंती पर जाने नानक जी के जीवन से जुड़ीं दिलचस्प बातें

30 नवंबर सोमवार को नानक जयंती मनाई जाएगी। सिख धर्म के प्रवर्तक गुरु नानक देव …