वास्तु में बताया गयें इन पौधों का महत्व , जो जीवन में सुख-शांति लेकर आते है …

हर व्यक्ति की चाहत होती है कि उसके जीवन में हमेशा सुख-शांति का वास रहे और उसका पूरा जीवन खुशियों से भरा रहे। इसके लिए व्यक्ति की मेहनत के साथ किस्मत और घर के वास्तु का सही होना भी बहुत जरूरी हैं। इसलिए आज हम आपको वास्तु में बताए गए कुछ ऐसे पौधों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके घर में सकारात्मकता लेकर आते है और घर में सुख-शांति का आगमन करते हैं।

तो आइये जानते है वास्तु में बताए गए उन पौधों के बारे में।

* रोजमैरी 

इसकी सुगंध से व्यक्ति रिलैक्स और एनर्जेटिक फील करता है। इसके साथ ही साथ ये हीलिंग और एनवायरनमेंट प्यूरीफिकेशन में भी हेल्प करती है।

* श्वेतार्क का पौधा 

इसे गणपति का पौधा मानते हैं और यह दूध वाला होता है। अब वैसे तो वास्तु के हिसाब से ऐसे पौधों का घर के भीतर होना अशुभ होता है, मगर श्वेतार्क इस मामले में अपवाद है। ऐसी भी मान्यता है कि जिसके घर के समीप यह पौधा फलता-फुलता है वहां हमेशा बरकत बनी रहती है।

* नारंगी का पौधा 

नारंगी व नींबू के वृक्ष सौभाग्य व सम्पन्नता के प्रतीक हैं। सुनहरे रंग की नारंगी सोने की प्रतीक है। अपने बगीचे की दक्षिण-पश्चिम दिशा के कोने में नारंगी का पौधा लगाइए, क्योंकि घर का यह क्षेत्र सम्पत्ति का सूचक है।

* तुलसी 

हिंदू धर्म में यह पौधा बहुत पूजनीय है। इसके घर में होने से नेगेटिव एनर्जी और धन की कमी दूर होती है। औषधीय गुणों की वजह से इसे कुकिंग में भी यूज करते हैं।

* बांस का पौधा 

फेंगशुई के अनुसार घर में बांस के पौधे लगाना शुभ फलदायक माना गया है ऐसा माना जाता है कि बांस के पौधे लगाने से घर में सुख समृद्धि आती है।

* हनिसकल 

इस फूल के घर में होने से धन की समस्या दूर होती है। एक बाउल में इसकी पंखुडिय़ां लेकर रूम में रखने से मन-मस्तिष्क पर अच्छा असर पड़ता है।

* अन्य 

पान का पौधा, चंदन, हल्दी, नींबू आदि के पौधों को भी घर में लगाया जा सकता है। इन पौधों को पश्चिम-उत्तर के कोण में रखने से घर के सदस्यों में आपसी प्रेम बढ़ता है।

जानिए तारीख , विवाह के सबसे ज्यादा शुभ मुहूर्त है जून में ,
ये 7 निशान हाथ के, उज्ज्वल भविष्य को दर्शाते है आपके -जानें कैसे..

Check Also

इस कारण हनुमान भक्तों पर नहीं पड़ती कभी शनि की वक्री दृष्टि

शास्त्रों में कई कहानियां और कथाए हैं जिनके बारे में सुनकर और जानकर हैरत होती …