करें मां बगलामुखी की पूजा, शत्रुओं से मिलेगी मुक्ति

वैशाखमास की शुक्लपक्ष की अष्टमी तिथि को देवी बगलामुखी का अवतरण दिवस माना जाता है. देवी बगलामुखी मां दुर्गा का ही एक स्वरूप हैं. दस महाविद्याओं में से मां बगलामुखी आठवां स्वरूप है. इनका स्वरूप सोने के समान अर्थात पीला है, जिसके कारण इन्हें पीतांबरा भी कहा जाता है. मां बगलामुखी अपने भक्तों की शत्रुओं तथा बुरी नजर और  हर नकारात्मक शक्ति से रक्षा करती हैं. देवी बगलामुखी की पूजा-अर्चना में विशेष तौर पर पीले रंग की पूजा सामग्री, पीले वस्त्रों और पीले ही मिष्ठान का प्रयोग किया जाता है.

क्यों चढ़ाया जाता है सिंदूर, हनुमान जी को जानें- धार्मिक महत्व
भजन, जो मन मोह लेंगे आपका: सूरदास

Check Also

मलमास में तुलसी के पौधे की पूजा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है : धर्म

अधिक मास को पुरुषोत्तम मास कहा जाता है। इस माह के स्वामी भगवान विष्णु हैं। …