सीता नवमी का महत्व और पूजन विधि: वैशाख मास

शुक्लपक्ष की नवमी तिथि को मध्याह्न काल में पुष्य नक्षत्र में माता सीता का प्राकट्य हुआ था. इसी कारण यह तिथि सीता नवमी कहलाती है. हिंदू समाज में जिस प्रकार श्री राम नवमी का महत्व है, उसी प्रकार सीता नवमी का भी है. सीता नवमी के दिन माता सीता की पूजा अर्चना करके मुश्किलों को आसानी से दूर करने के साथ-साथ अपनी माता के रोगों और पारिवारिक कलह क्लेश को दूर किया जा सकता है. इस बार सीता नवमी 13 मई 2019 सोमवार के दिन मनाई जाएगी.

मां के लिए मोड़ दिया नदी का रुख: आदि शंकराचार्य
किस दिन पड़ेगा कौन सा त्योहार: मई के महीने में

Check Also

चाणक्य नीति

मुझे वह दौलत नही चाहिए जिसके लिए कठोर यातना सहनी पड़े, सदाचार का त्याग करना …