मां के लिए मोड़ दिया नदी का रुख: आदि शंकराचार्य

7 वर्ष का आयु में संन्यास लेने वाले शंकराचार्य ने मात्र 2 वर्ष की आयु में सारे वेदों, उपनिषद, रामायण, महाभारत को कंठस्थ कर लिया था. शंकराचार्य ऐसे संन्यासी थे जिन्होंने गृहस्थ जीवन त्यागने के बाद भी अपनी मां का अंतिम संस्कार किया.

आसान उपायों से पाएं नवग्रह दोष से मुक्ति
सीता नवमी का महत्व और पूजन विधि: वैशाख मास

Check Also

नवरात्रि माँ के 7वे स्वरूप यानि माँ कालरात्रि की पूजा में इन मंत्रो का करे जाप

नवरात्रि हिंदुओं का पावन त्यौहार माना जाता है और इस त्यौहार पर माँ के हर …