गुरु और ईश्वर दोनों को एक समान माना गया

हिंदू धर्म में गुरु और ईश्वर दोनों को एक समान माना गया है। गुरु भगवान के समान है और भगवान ही गुरु हैं। गुरु ही ईश्वर को प्राप्त करने और इस संसार रूपी भव सागर से निकलने का रास्ता बताते हैं। गुरु के बताए मार्ग पर चलकर व्यक्ति शान्ति, आनंद और मोक्ष को प्राप्त करता है। शास्त्रों और पुराणों में कहा गया कि अगर भक्त से भगवान नाराज हो जाते हैं तो गुरु ही आपकी रक्षा और उपाय बताते हैं। महान संत और कवि कबीरजी का गुरु और भगवान के बारे में विश्व प्रसिद्ध दोहे रचना की है-

गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पाँय।
बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो बताय॥

भौतिक सुख-सुविधाओं का कारक: शुक्र ग्रह
आत्महत्या के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदारी चन्द्रमा की होती: धर्म

Check Also

नवरात्रि माँ के 7वे स्वरूप यानि माँ कालरात्रि की पूजा में इन मंत्रो का करे जाप

नवरात्रि हिंदुओं का पावन त्यौहार माना जाता है और इस त्यौहार पर माँ के हर …