जिन भक्तों ने किया साईं बाबा का व्रत, दूर हो गए उनके कष्ट

धार्मिक परम्परा के चलते इन व्रत और त्यौहारों का मानव जीवन में कोई न कोई अस्तित्व अवश्य रूप से होता है . इन्हीं व्रतों में एक व्रत साईं बाबा के लिए गुरुवार को रखा जाता है, यदि हम इस व्रत को नियम सयंम के साथ रखते है. तो उसका विशेष फल प्राप्त होता है.

साईं बाबा अपने भक्त की हर एक मनोकामना पूरी करते है । फिर चाहे व्यक्ति की मनोकामना नौकरी, शादी, स्थानांतरण आदि की हो . व्यक्ति के दुख से भरे मन व् जीवन को साईं बाबा सहारा अवश्य रूप से देते हैं। गुरुवार का दिन साईं बाबा के पूजन – भजन के लिए रहता है. और इस दिन जो भी भक्त -जन साईं बाबा का पूजन कर व्रत कथा को पूर्ण करता है. तो उसकी हर एक कामना पूर्ण होती है.व्यक्ति के जीवन में नौकरी , शादी ,व्यवसाय से सम्बंधित अन्य समस्या भी दूर हो जाती है.

बाबा की भक्तों पर विशेष कृपा बरसती है। साईं बाबा का यह व्रत बहुत ही आसान है. इसे कोई भी कर सकता है। साईं बाबा के व्रत को बच्चें हों या बूढ़े सभी कर सकते हैं। साईं बाबा अपने भक्तों में किसी भी तरह का कोई भेदभाव नहीं करते हैं वे सबको एक ही दृष्टि से देखते है .व्यक्ति अमीर हो या गरीब सभी को बाबा समान भाव से देखते है और सबकी झोलियाँ भर देते है.

यदि आप साईं बाबा का व्रत शुरु कर रहे है तो इसे 9 गुरुवार तक अवश्य रूप से करें । आपको चाहिए की इस व्रत को आप बीच में मत छोड़ें पर यदि कोई मुश्किल आ गई तो बात ही अलग है पर कोशिश करें की यह व्रत छूटे ना . आपको चाहिए की आप गुरुवार के दिन गरीबों को भोजन और अपनी इच्छानुसार दान दें ।

इसके साथ ही साईं बाबा की कथा पूर्ण करने के बाद पुस्तकें बांटे ये पुस्तक उन्हीं लोगों के बीच वितरित करें जो इन्हें पढ़े, साईं बाबा का यह व्रत शुक्लपक्ष या कृष्णपक्ष किसी भी तिथि में व्रत शुरु कर सकते हैं। 9 गुरुवार तक व्रत करने से आपकी हर एक मनोकामना पूर्ण हो सकती है . मान्यता है कि साईं बाबा को कुमकुम लगाने से बड़े ही सौभाग्य की प्राप्ति होती है। बाबा को दूध अर्पित करने से वंश की वृद्धि होती है। और दही समर्पित करने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है और बाबा को शहद अर्पित करने से आपके जीवन में मधुरता आती है।

आप जब भी साईं बाबा की पूजा करते है. तो उस वक्त हमेशा दाहिनी और घी का दीपक और बायीं और तेल का दीपक प्रज्वलित करना चाहिए। घी का दीपक प्रज्वलित करने से घर में यश और खुशी आती है. और तेल का दीपक प्रज्वलित करने से किसी भी प्रकार की गृहदशा, मंगल दोष शनिदोष आदि दूर हो जाते है ।

बाबा आपकी हर एक मनोकामना पूर्ण करते है आपके जीवन में सुख शांति भर देते है .

इन काम को करने से प्रसन्न होती है माँ लक्ष्मी
देव गुरू बृहस्पति देते हैं शीघ्र विवाह का वरदान

Check Also

भैरव साधना करने से होंगे संकट दूर, जानिए कब है कालभैरव अष्टमी?

भगवान शिव की तंत्र साधना में भैरव का विशेष महत्व है| भैरव वैसे तो शिव …