सावन के हर सोमवार को करें श्री शिवमङ्गलाष्टकम् का जाप

कहा जाता है सावन के महीने में भोले बाबा को खुश करने के लिए खूब प्रयास किए जाते हैं और कई मन्त्र और नामों का जाप होता है. ऐसे में आज हम लेकर आए हैं श्री शिवमङ्गलाष्टकम् जिसका जाप सावन के हर सोमवार के दिन करना चाहिए. जी हाँ, सावन के सोमवार के दिन इसका जाप करने से आपको बड़ा लाभ मिल सकता है और आपकी हर मनोकामना पूरी हो सकती है. आइए पढ़ते हैं श्री शिवमङ्गलाष्टकम्.
श्री शिवमङ्गलाष्टकम्॥

भवाय चन्द्रचूडाय निर्गुणाय गुणात्मने।
कालकालाय रुद्राय नीलग्रीवाय मङ्गलम्॥ १ ॥

वृषारूढाय भीमाय व्याघ्रचर्माम्बराय च।
पशूनां पतये तुभ्यं गौरीकान्ताय मङ्गलम्॥ २ ॥

भस्मोद्धूलितदेहाय व्यालयज्ञोपवीतिने।
रुद्राक्षमालाभूषाय व्योमकेशाय मङ्गलम्॥ ३ ॥

सूर्यचन्द्राग्निनेत्राय नमः कैलासवासिने।
सच्चिदानन्दरूपाय प्रमथेशाय मङ्गलम्॥ ४ ॥

मृत्युंजयाय सांबाय सृष्टिस्थित्यन्तकारिणे।
त्र्यंबकाय सुशान्ताय त्रिलोकेशाय मङ्गलम्॥ ५ ॥

गंगाधराय सोमाय नमो हरिहरात्मने।
उग्राय त्रिपुरघ्नाय वामदेवाय मङ्गलम्॥ ६ ॥

सद्योजाताय शर्वाय दिव्यज्ञानप्रदायिने।
ईशानाय नमस्तुभ्यं पञ्चवक्त्राय मङ्गलम्॥ ७ ॥

सदाशिवस्वरूपाय नमस्तत्पुरुषाय च।
अघोरायच घोराय महादेवाय मङ्गलम्॥ ८ ॥

मङ्गलाष्टकमेतद्वै शंभोर्यः कीर्तयेद्दिने।
तस्य मृत्युभयं नास्ति रोगपीडाभयं तथा॥ ९ ॥

पहले सावन सोमवार में जानें किस मुहूर्त में करें भोलेनाथ को जल अर्पित
इस कारण भगवान विष्णु ने राम के रूप में पृथ्वी पर लिया था अवतार

Check Also

नवरात्र की पांचवीं देवी स्कंद माता इस प्रसाद से होंगी प्रसन्न..जाने

शुभ रंग: श्वेत (सफ़ेद) माता का स्वरूप स्कंदमाता की दाहिनी भुजा में कमल पुष्प, बाई …