चमत्कार और रहस्य से भरा है भगवान जगन्नाथ का मंदिर, कभी भक्तों को कम नहीं पड़ता प्रसाद

पुरी के भगवान जगन्नाथ की भव्य रथ यात्रा आज निकलेगी। वह अपने भाई बलराम और बहन सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर गुंडीचा मंदिर अपनी मौसी के घर जाएंगे, जहां वे तीनों 7 दिनों तक विश्राम करेंगे। नौ दिनों तक चलने वाली यह रथ यात्रा जगन्नाथ मंदिर से शुरू होकर गुंडिचा मंदिर तक जाती है और फिर वहां से जगन्नाथ मंदिर वापस आती है। इस रथ यात्रा में शामिल होने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं, जो लोग इस रथ को खींचते हैं, वे खुद को भाग्यमान मानते हैं। जगन्नाथ पुरी हिन्दुओं के पवित्र चार धामों में से एक है। इस मंदिर की कुछ ऐसी खासियतें हैं, जिन्हें जानकर आप आश्चर्यचकित हो जाएंगे।

रथ यात्रा के अवसर पर हम आपको बता रहे हैं जगन्नाथ मंदिर के बारे में —

1. पुरी का जगन्नाथ मंदिर वैष्णव सम्प्रदाय के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह भगवान विष्णु के अवतार श्रीकृष्ण को समर्पित है। भगवान जगन्नाथ इस मंदिर में अपने भाई बलराम और बहन सुभद्रा के साथ विराजन हैं।

2. गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय के संस्थापक श्री चैतन्य महाप्रभु भगवान जगन्नाथ की नगरी पुरी में कई साल तक रहे थे, इस वजह से इस मंदिर का गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय में खास महत्व है।

3. 400,000 वर्ग फुट में फैले इस विशाल मंदिर के शिखर पर चक्र और ध्वज स्थित हैं। इन दोनों का खास महत्व है। चक्र सुदर्शन चक्र का और लाल ध्वज भगवान जगन्नाथ के मंदिर के अंदर विराजमान होने का प्रतीक है। अष्टधातु से निर्मित इस चक्र को नीलचक्र भी कहा जाता है।

4. कलिंग शैली में बने इस विशाल मंदिर के निर्माण का कार्य कलिंग राजा अनंतवर्मन चोडगंग देव ने शुरू कराया था। बाद में अनंग भीम देव ने इसे वर्तमान स्वरुप दिया था।

5. इस मंदिर के बारे में आश्चर्यचकित कर देने वाली बात यह है कि मंदिर के शीर्ष पर लगा ध्वज हमेशा हवा के विपरीत लहराता है।

6. कहा जाता है कि आप जगन्नाथ पुरी में कहीं से भी मंदिर के शीर्ष पर लगे सुदर्शन चक्र को देख सकते हैं।

7. इस मंदिर के बारे में यह भी कहा जाता है कि इसके ऊपर से कोई भी पक्षी या विमान नहीं उड़ पाता है।

8. मंदिर के आश्यर्चों में एक बात और बताई जाती है कि इसके रसोईघर में चूल्हे पर एक के ऊपर एक 7 बर्तन रखा जाता है। भोजन पहले सबसे ऊपर वाले बर्तन का पकता है।

9. बताया जाता है कि इस मंदिर में भक्तों के लिए बनने वाला प्रसाद कभी कम नहीं पड़ता है। मंदिर में वर्ष भर सामान्य मात्रा में ही प्रसाद बनाया जाता है, लेकिन भक्तों की संख्या 1000 हो या एक लाख प्रसाद किसी को कम नहीं पड़ता। मंदिर का कपाट बंद होते ही बचा हुआ प्रसाद खत्म हो जाता है। 500 रसोइए अपने 300 सहयोगियों के साथ प्रसाद बनाते हैं।

अगर रोज भोले को नहीं अर्पित कर पाते बेलपत्र तो चढ़ाये इन 4 पत्तों में से कोई एक
जानें क्या है शिवलिंग का अर्थ, भगवान शिव के नंदी, डमरू और त्रिशूल का महत्व

Check Also

नवरात्रि के चौथे दिन ऐसे करें माता कुष्मांडा का पूजन, जानें उनके स्वरूप

आप सभी जानते ही होंगे नवरात्रि का पर्व इन दिनों आरम्भ हो चुका है और …