यहाँ जानिए हरियाली तीज पर कैसे करें पूजा और क्या है पूजा और श्रृंगार सामग्री

आप सभी जानते ही हैं कि हरियाली तीज हिन्दुओं का मुख्य पर्व माना जाता है. वहीं इस दिन महिलाएं खूब खुश रहती हैं और अपने पति के लिए व्रत करती हैं. वहीं इस दिन अच्‍छे पति की कामना के लिए अविवाहित लड़कियां भी इस व्रत को रखती हैं और ऐसी मान्‍यता है कि हरियाली तीज का व्रत रखने से विवाहित स्त्रियों के पति की उम्र लंबी होती है, जबकि अविवाहित लड़कियों को मनचाहा जीवन साथी मिलता है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं हरियाली तीज के लिए जरूरी पूजा और श्रृंगार सामग्री जो आपको आज ही ले लेना चाहिए.

हरियाली तीज पूजा और श्रृंगार सामग्री – कहते हैं हरियाली तीज के दिन पूजा के लिए काले रंग की गीली मिट्टी, पीले रंग का कपड़ा, बेल पत्र, जनेऊ, धूप-अगरबत्ती, कपूर, श्रीफल, कलश, अबीर, चंदन, तेल, घी,दही, शहद दूध और पंचामृत चाहिए और इसी के साथ इस दिन पार्वती जी का श्रृंगार किया जाता है और इसके लिए चूड़‍ियां, आल्‍ता, सिंदूर, बिंदी, मेहंदी, कंघी, शीशा, काजल, कुमकुम, सुहाग पूड़ा और श्रृंगार की अन्‍य चीजों की जरूरत होती है.

हरियाली तीज की पूजा विधि- इसके लिए सुबह उठकर स्‍नान करने के बाद मन में व्रत का संकल्‍प लें. अब सबसे पहले घर के मंदिर में काली मिट्टी से भगवान शिव शंकर, माता पार्वती और गणेश की मूर्ति बनाएं. अब इसके बाद इन मूर्तियों को तिलक लगाएं और फल-फूल अर्पित करें. इसके बाद माता पार्वती को एक-एक कर सुहाग की सामग्री अर्पित करें. अब भगवान शिव को बेल पत्र और पीला वस्‍त्र चढ़ाएं. इसके बाद तीज की कथा पढ़ने या सुनने के बाद आरती करें. अब उसके अगले दिन सुबह माता पार्वती को सिंदूर अर्पित कर भोग चढ़ाएं और प्रसाद ग्रहण करने के बाद व्रत का पारण करें.

हरियाली तीज कथा : 3 अगस्त को अवश्य पढ़ें यह प्रामाणिक व्रत कथा
कब लगता है कालसर्प योग, जानिए इस पीड़ा से मुक्ति के लिए पढ़ें कौन-सा मंत्र

Check Also

देवउठनी एकादशी 2020 : पूजा की 17 बातें बहुत जरूरी हैं आपके लिए

कार्तिक माह भगवान विष्णु का महीना माना गया है। इस महीने में खासतौर पर विष्णु पूजन …