शिवभक्त हैं ये 10 पौराणिक नाग, नागपंचमी पर इनकी पूजा से मिट जाता है पाप

पुराणों में नागकुल के सैकड़ों नागों का उल्लेख मिलता है। ये सभी कश्यप ऋषि की पत्नी कद्रू से उत्पन्न हुए थे। उनके 8 प्रमुख पुत्र हैं- 1. अनंत (शेष), 2. वासुकि, 3. तक्षक, 4. कर्कोटक, 5. पद्म, 6. महापद्म, 7. शंख और 8. कुलिक। इसके अलावा धृतराष्ट्र और कालिया नाग भी चर्चित हैं।

1. शेषनाग- भगवान विष्णु के सेवक शेषनाग के सहस्र फन पर धरती टिकी हुई है। ब्रह्मा के वरदान से ये पाताल लोक के राजा हैं। रामायण काल में लक्ष्मण शेषनाग के अवतार थे और महाभारत काल में बलराम शेषनाग के अंश थे।
2. वासुकि- भगवान शिव के सेवक वासुकि हैं। समुद्र मंथन के दौरान मंदराचल पर्वत को मथनी तथा वासुकि को ही नेती (रस्सी) बनाया था। त्रिपुरदाह के समय वे शिव के धनुष की डोर बने थे। महाभारत काल में उन्होंने विष से भीम को बचाया था।
3. तक्षक- महाभारत काल में शमीक मुनि के शाप के कारण तक्षक नाग ने राजा परीक्षित को डंस लिया था। तब उनके पुत्र जन्मेजय ने नागदाह यज्ञ कर सभी नागों को मार दिया था लेकिन कर्कोटक बच गया था।
4. कर्कोटक- नागराज कर्कोटक शिव के गण थे। नारद के शाप से वे एक अग्नि में पड़े थे, लेकिन नल ने उन्हें बचाया और कर्कोटक ने एक शाप के चलते नल को ही डंस लिया। शिवजी की स्तुति के कारण कर्कोटक जन्मेजय के नाग यज्ञ से बचकर अवंतिका में छुप गए थे।
5. पद्म- पद्म नागों का गोमती नदी के पास के नेमिश नामक क्षेत्र पर शासन था। बाद में ये मणिपुर में बस गए थे। असम के नागवंशी इन्हीं के वंश से है।
Nag dev” class=”imgCont” height=”592″ src=”//media.webdunia.com/_media/hi/img/article/2019-08/02/full/1564742555-0977.jpg” style=”border: 1px solid #DDD; margin-right: 0px; float: none; z-index: 0;” title=”” width=”740″ />
6. महापद्म- विष्णुपुराण में सर्प के विभिन्न कुलों में महापद्म का नाम भी आया है। पद्म और महापद्म नाग कुल में विशेष प्रीति थी।
7. शंख- नागों के 8 मुख्य कुलों में से एक है। शंख नागों पर धारियां होती हैं। यह जाति अन्य नाग जातियों की अपेक्षा अधिक बुद्धिमान मानी जाती थी।
8. कुलिक- कुलिक नाग जाति नागों में ब्राह्मण कुल की मानी जाती है जिसमें अनंत भी आते हैं। ये अन्य नागों की भांति कश्यप ऋषि के पुत्र थे लेकिन इनका संबंध सीधे ब्रह्माजी से भी माना जाता है।
9. धृतराष्ट्र नाग- वासुकि के पुत्र धृतराष्ट्र के पास संजीवनी मणि थी। जब अर्जुन पुत्र बभ्रुवाहन ने अर्जुन का वध कर दिया था तब अर्जुन को जिंदा करने के लिए बभ्रुवाहन ने धृतराष्ट्र से युद्ध करके वह मणि हासिल की थी। इस मणि के उपयोग से अर्जुन पुनर्जीवित हो गए थे।
10. कालिया नाग- कालिया नाग यमुना नदी में निवास करता था। उसके जहर से यमुना नदी का पानी भी जहरीला हो गया था। श्रीकृष्ण ने जब यह देखा तो उनका कालिया नाग के साथ भयंकर युद्ध हुआ। युद्ध में पराजित कालिया नाग को यमुना नदी को छोड़कर जाना पड़ा था।
हनुमानजी के ये 11 चित्र, कटेगा संकट और बदल देंगे आपका भाग्य
4 अगस्त 2019 के शुभ मुहूर्त

Check Also

नवरात्रि के चौथे दिन ऐसे करें माता कुष्मांडा का पूजन, जानें उनके स्वरूप

आप सभी जानते ही होंगे नवरात्रि का पर्व इन दिनों आरम्भ हो चुका है और …