आज है हरतालिका तीज ; महिलाएं निर्जला व्रत कर भगवान शिव और माता पार्वती की करे पूजा

देश के कई हिस्सों में आज हरतालिका तीज मनाई जाएगी. हरतालिका तीज के अवसर पर सुहागिन महिलाएं निर्जला व्रत रखकर भगवान शिव और माता पार्वती पूजा-अर्चना करती हैं.

हरतालिका तीज हर साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है. महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए यह व्रत करती हैं. इस दिन महिलाएं पूरे दिन कुछ नहीं खाती हैं इसलिए हरतालिका तीज का व्रत सबसे कठिन व्रतों में से एक माना जाता है.

हरतालिका तीज से एक दिन पहले महिलाएं हाथों में मेहंदी लगाता हैं. व्रत करने वाली महिला सूर्योदय से पहले जगकर स्नान, ध्यान कर सोलह श्रृंगार करती हैं. महिलाएं कथा सुनने के बाद निर्जला रहकर पूरे दिन व्रत रखती हैं.

पूजा का समय

प्रदोष काल हरतालिका पूजा का मुहूर्त शाम को 6.54 से लेकर रात 9.06 बजे तक रहेगा. जबिक हरतालिका पूजा का मुहूर्त सुबह 5.53 से 8.29 बजे तक रहेगा. साथ ही तीज के दिन स्थिर नक्षत्र व साध्य योग रहेगा.

भगवान शिव को पाने के लिए पार्वती ने किया था व्रत

हरतालिका तीज मनाने के पीछे मान्यता है कि भगवान शिव को पाने के लिए माता पार्वती ने सबसे पहले हरतालिका व्रत किया था. हरतालिका दो दो शब्दों से मिलकर बना है. एक हरत और दूसरा आलिका,. इसमें हरत का अर्थ होता है अपहरण और आलिका अर्थात सहेली. इसी वजह से यह व्रत हरतालिका कहलाता है.

इसकी एक पौराणिक कथा मिलती है. इसके अनुसार पार्वती की सहेलियां उनका अपहरण करके जंगल में ले गई थीं जिससे उनकी इच्छा के के विपरीत विवाह भगवान विष्णु से न हो जाए. जंगल में पार्वती ने भगवान शिव की अराधना की और भाद्रपद शुक्ल तृतीया के दिन मिट्टी के शिवलिंग की पूजा की. उनकी तपस्या से भगवान शिव ने खुश होकर उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकर कर लिया.

 

चाहते हैं धन का आगमन, तो गणेशोत्सव में अपनाएं ये चमत्कारी उपाय
गलती से भी हरतालिका तीज पर ना करें ये कार्य

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …