आज के दिन अवश्य पढ़े या सुने मां चंद्रघंटा की कथा

नवरात्रि का तीसरा दिन माता चंद्रघंटा को समर्पित है। कहा जाता है माँ चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र है, इसी वजह से इन्हें चंद्रघंटा देवी कहते हैं। जी दरअसल यह शक्ति माता का शिवदूती स्वरूप है। आप सभी को हम यह भी बता दें कि देवी के इस चंद्रघंटा स्वरूप का वाहन सिंह है। इसी के साथ माँ के दस हाथ माने गए हैं और यह खड्ग आदि विभिन्न अस्त्र और शस्त्र से सुसज्जित हैं। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं माँ की कथा जिसे आज जरूर पढ़ना या सुनना चाहिए।

मां चंद्रघंटा की कथा-  पौराणिक कथा के अनुसार जब दैत्यों का आतंक बढ़ने लगा तो मां दुर्गा ने मां चंद्रघंटा का अवतार लिया। असुरों का स्वामी महिषासुर था, जिसका देवताओं से भंयकर युद्ध चल रहा था। महिषासुर देव राज इंद्र का सिंहासन प्राप्त करना चाहता था। उसकी प्रबल इच्छा स्वर्गलोक पर राज करने की थी। उसकी इस इच्छा को जानकार सभी देवता परेशान हो गए और इस समस्या से निकलने का उपाय जानने के लिए भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश के सामने उपस्थित हुए। देवताओं की बात को गंभीरता से सुनने के बाद तीनों को ही क्रोध आया। क्रोध के कारण तीनों के मुख से जो ऊर्जा उत्पन्न हुई।

उससे एक देवी अवतरित हुईं। जिन्हें भगवान शंकर ने अपना त्रिशूल और भगवान विष्णु ने चक्र प्रदान किया। इसी प्रकार अन्य देवी देवताओं ने भी माता के हाथों में अपने अस्त्र सौंप दिए। देवराज इंद्र ने देवी को एक घंटा दिया। सूर्य ने अपना तेज और तलवार दी, सवारी के लिए सिंह प्रदान किया। इसके बाद मां चंद्रघंटा महिषासुर के पास पहुंची। मां का ये रूप देखकर महिषासुर को ये आभास हो गया कि उसका काल आ गया है। महिषासुर ने मां पर हमला बोल दिया। इसके बाद देवताओं और असुरों में भंयकर युद्ध छिड़ गया। मां चंद्रघंटा ने महिषासुर का संहार किया। इस प्रकार मां ने देवताओं की रक्षा की।

जानिए आज का पंचांग, शुभ और अशुभ मुहूर्त
आज है नवरात्रि का तीसरा दिन, माँ चंद्रघंटा की ऐसे करे पूजा

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …