करवा चौथ पर पहनें ये खास चूड़ियां, होगा शुभ

करवा चौथ में आवश्यक है कि आप अपने लुक को बिल्कुल परफेक्ट बनाकर रखें। ड्रेस हो, चूड़ी हो, बिंदी हो अथवा फिर काजल सब कुछ पूरा परफेक्ट होना चाहिए। पर्व में आवश्यक है कि आप अपने हर ड्रेस तथा लुक के अनुसार अपने आप को तैयार करें। जब आप ऊपर से नीचे तक सजी-धजी रहें तो आप की कलाइयां भी ड्रेस के अनुसार, भरी रहनी चाहिए। इसके लिए मार्केट में रंग-बिरंगी चूड़ियां उपस्थित होती हैं जो आपके कलाइयों को आपके कपड़ों के साथ एक शानदार लुक देती हैं। मार्केट में कई तरीके के चूड़ियां उपस्थित हैं जैसे -लाख की चूड़ियां, ग्लॉसी मल्टीकलर चूड़ियां तथा ट्रेडिशनल थ्रेड वर्क चूड़ियां।

लाख से बनी हुई चूड़ियों को आप करवा चौथ पर ट्राय कर सकती हैं क्योंकि इन्हें शुभ माना जाता है। यह चूड़ियां रंग-बिरंगी तथा बहुत सुन्दर होती हैं। इन्हें आप शादियों में भी पहन सकती हैं। इसे पहनने के पश्चात् ध्यान रखें कि खाना बनाने अथवा आग के समक्ष कोई काम न करें। ऐसा इसलिए क्योंकि आग की ताप से यह पिघलने लगती हैं तथा इससे आपके हाथ को हानि पहुंच सकती है। इसे आप बनारसी तथा सिल्क साड़ी के साथ पहन सकती हैं।

ग्लॉसी रंग-बिरंगी चूड़ियों को आप किसी भी रंग की साड़ी, लहंगे तथा अनारकली सूट के साथ करवा चौथ पर कैरी कर सकती हैं। इन चूड़ियों की विशेष बात यह है कि यह टूटती नहीं हैं। इसके अतिरिक्त यह कमाल की फिनिशिंग के साथ बनाई गई होती हैं। इसमें करीब सभी कलर्स की सुन्दर चूड़ियां मिल जाती हैं। यह कांच तथा प्लास्टिक दोनों की बनी चूड़ियों पर कलरफुल चंदेरी लेस से लपेटकर तैयार की जाती हैं। साथ ही इस डिजाइन की चूड़ियों को सुन्दर रंगों में अलग-अलग तरीके के काम जैसे राजस्थानी, मोरपंखी तथा पंजाबी गोटे से सजाकर बनाया जाता है। इस प्रकार की चूड़ियों को आप सिल्क साड़ी तथा राजस्थानी लहंगे पर कैरी कर सकती हैं। करवा चौथ पर ऐसी चूड़ियों की और डिमांड बढ़ जाती है। यह चूड़ियां सामान्य रूप से राजस्थान के जोधपुर तथा गुजरात के गरबा स्टाइल के कलरफुल कपड़ों पर बहुत अच्छी लगती हैं।

मांगलिक कार्य में क्यों मौजूद होता है अक्षत्, जानें इसका धार्मिक महत्व
कल है शरद पूर्णिमा, जरूर पढ़े-सुने ये पौराणिक एवं प्रचलित कथा

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …