जानिए क्या है आज का पंचांग, राहुकाल और शुभ मुहूर्त

आज के समय में शुभ और अशुभ मुहूर्त देखकर काम किया जाता है, तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं आज का पंचांग।

आज का पंचांग –

राष्ट्रीय मिति कार्तिक 14 शक संवत् 1942 कार्तिक कृष्ण पंचमी बृहस्पतिवार विक्रम संवत् 2077। सौर कार्तिक मास प्रविष्टे 20, रवि-उल्लावल 18, हिजरी 1442 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 05 नवंबर सन् 2020 ई॰।

सूर्य दक्षिणायण, दक्षिण गोल, हेमन्त ऋतु। राहुकाल अपराह्न 01 बजकर 30 मिनट से 03 बजे तक। पंचमी तिथि अगले दिन सुबह 06 बजकर 37 मिनट तक उपरान्त षष्ठी तिथि का आरंभ।

आद्र्रा नक्षत्र अगले दिन सुबह 06 बजकर 45 मिनट तक उपरान्त पुनर्वसु नक्षत्र का आरंभ, शिव योग प्रातः 06 बजकर 55 मिनट तक उपरान्त सिद्ध योग का आरंभ।
कौलव करण सायं 05 बजकर 56 मिनट तक उपरान्त गर करण का आरंभ। चन्द्रमा दिन-रात मिथुन राशि पर संचार करेगा।

सूर्योदय का समय 5 नवंबर: सुबह 06 बजकर 35 मिनट पर।

सूर्यास्त का समय 5 नवंबर: शाम 05 बजकर 34 मिनट पर।

आज का शुभ मुहूर्तः अभिजीत मुहूर्त 11 बजकर 43 मिनट से 12 बजकर 26 मिनट तक। विजय मुहूर्त दोपहर 01 बजकर 54 मिनट से 02 बजकर 38 मिनट तक रहेगा। निशीथ काल 11 बजकर 39 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक। गोधूलि मुहूर्त शाम 05 बजकर 22 मिनट से 05 बजकर 46 मिनट तक। अमृत काल शाम को 7 बजकर 58 मिनट से 9 बजकर 41 मिनट तक। ब्रह्म मुहूर्त अगले दिन सुबह 4 बजकर 52 मिनट से 5 बजकर 45 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः राहुकाल दोपहर 1 बजकर 30 मिनट से 3 बजे तक। सुबह 9 बजे से 10 बजकर 30 मिनट तक गुलिक काल रहेगा। सुबह 6 बजे से 7 बजकर 30 मिनट तक यमगंड रहेगा। दुर्मुहूर्त सुबह 10 बजकर 15 मिनट से 10 बजकर 59 मिनट तक।

बनना है धनवान तो जरुर करे ये काम
शिव पूजा में भूल से भी इन फूलों का करना चाहिए इस्तेमाल

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …