चाणक्य नीति: जब तक शरीर निरोग है और मृत्यु दूर है, कर लें ये कार्य

चाणक्य के अनुसार मनुष्य का जीवन श्रेष्ठ कार्य करने के लिए मिला है. इसलिए मनुष्य को नेक और अच्छे कार्य करने चाहिए. जीवन में किए गए अच्छे कार्यों को लंबे समय तक याद रखा जाता है. आचार्य चाणक्य के अनुसार जीवित रहते ही व्यक्ति को लोक कल्याण के कार्य करने चाहिए क्योंकि मृत्यु के बाद किसी को मौका नहीं मिलता है. इसलिए प्रतिदिन एक नेक कार्य करने का प्रयास करना चाहिए.

अच्छे कार्य करने से मिलता है सम्मान
चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति लोगों के कल्याण के लिए कार्य करता है. उनके सुख और दुख में सहभागी बनता है ऐसे लोगों को हर जगह सम्मान प्राप्त होता है. अच्छे कार्य करने के लिए व्यक्ति को अधिक इंतजार नहीं करना चाहिए. व्यक्ति किसी भी स्थिति में हो यदि उसे अच्छा कार्य करने का अवसर प्राप्त होता है तो तुरंत इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए.

कल पर नहीं टालना चाहिए कोई काम
चाणक्य के अनुसार आज के कार्य पर कभी कल पर नहीं टालना चाहिए. जो व्यक्ति आलस को त्याग कर, कार्यों को समय सीमा के भीतर पूर्ण करता है उसे सफल प्राप्त होती है. ऐसे लोग उच्च स्थान प्राप्त करते हैं.

आत्मा को शुद्ध बनाएं
चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को लोभ से दूर रहना चाहिए, मानवता को ध्यान में रखकर कार्य करना चाहिए. जो व्यक्ति बुरी आदतों से दूर रहता है. वह जीवन में सफलता प्राप्त करता है. अच्छे कार्यों को करने और सकारात्मक विचारों को अपनाने से आत्मविश्वास में वृद्धि होती है. इससे आत्मा भी शुद्ध होते हैं.

 

आज है शुक्ल पक्ष पूर्णिमा, जानिए आज का पंचांग
इस दिन है माघ पूर्णिमा, जानिए शुभ मुहूर्त

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …