महाशिवरात्रि पर मिथुन और कन्या राशि के स्वामी बुध, कुंभ राशि में करने जा रहे हैं राशि परिवर्तन

पंचांग और ज्योतिष गणना के अनुसार मार्च माह में बुध ग्रह का राशि परिवर्तन होने जा रहा है. बुध वर्तमान समय में मकर राशि में गोचर कर रहे हैं. जहां पर शनि देव और देव गुरू बृहस्पति विराजमान है. बुध का गोचर कई मायनो में महत्वपूर्ण माना जा रहा है. विशेषकर शिक्षा, जॉब और व्यापार के मामले में बुध ग्रह का गोचर महत्वपूर्ण फल प्रदान करेगा.

बुध ग्रह कब राशि बदलेंगे
बुध ग्रह का राशि परिवर्तन ज्योतिष गणना के अनुसार 11 मार्च 2021 दिन बृहस्पतिवार को दोपहर 12 बजकर 47 मिनट पर होने जा रहा है. इस दिन बुध कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे.

महाशिवरात्रि के दिन बुध ग्रह कर रहे हैं राशि परिवर्तन
महाशिवरात्रि के दिन बुध ग्रह का राशि परिवर्तन होने जा रहा है. यह एक शुभ दिन है. बुध ग्रह को मिथुन और कन्या राशि माना गया है. बुध को सभी ग्रहों का राजकुमार भी कहा जाता है. बुध एक शुभ ग्रह है.

बुध ग्रह का स्वभाव
बुध ग्रह को ज्योतिष शास्त्र में एक शुभ ग्रह माना गया है. बुध का संबंध वाणी से माना गया है. शुभ होने पर बुध वाणी को मधुर और प्रभावशाली बनाते हैं. वहीं बुध ग्रह गणना, तर्क शास्त्र, चिकित्सा और व्यापार आदि के भी कारक माने गए हैं. बुधवार का दिन बुध ग्रह को समर्पित है. भगवान विष्णु की पूजा करने से बुध ग्रह को मजबूत बनाने में मदद मिलती है.

कुंभ राशि में बना रहे हैं बुधादित्य योग
ज्योतिष शास्त्र में बुधादित्य योग को एक शुभ योग माना गया है. कुंभ राशि में बुध के आने से इस योग का निर्माण हो रहा है. सूर्य के साथ जब बुध युति बनाते हैं तो बुधादित्य योग का निर्माण होता है. 11 से 14 मार्च तक सूर्य कुंभ राशि में रहेंगे. इसके बाद सूर्य मीन राशि में प्रवेश कर जाएंगे. बुधादित्य योग के बनने से शिक्षा, व्यापार आदि के क्षेत्र में वृद्धि होती है. कुंभ राशि में शुक्र भी विराजमान हैं.

कुंभ राशिफल
बुध ग्रह का राशि परिवर्तन कुंभ राशि में होने जा रहा है, इस कारण इसका अधिक प्रभाव कुंभ राशि पर देखने को मिलेगा. इस दौरान कुंभ राशि वालों को रूके हुए कार्यों को पूरा करने में मदद मिल सकती है. शिक्षा और व्यापार संबंधी मामलो में अच्छे फल प्राप्त हो सकते हैं. लेकिन गलत संगत और गलत आदतों से दूर रहना होगा.

इस दिन से आरंभ होगी चैत्र नवरात्रि, मां के नौ रूपों में छिपा है नवग्रह शांति का उपाय
गणेश और कार्तिकेय के कारण हुई थी महादेव के दूसरे ज्योतिर्लिंग की स्थापना, जानिए पूरी कथा

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …