आपकी हथेली और अंगुलियों पर बने ये चिन्ह बदल सकते है आपका भाग्य

कहते है कि मनुष्य की हथेलियों में उसकी किस्मत छिपी होती है। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, हथेली पर बनी लकीरों तथा चिन्हों के भिन्न-भिन्न मायने होते हैं। इन्हीं में से होते हैं शंख तथा चक्र। अधिकतर व्यक्ति चक्र के चिन्ह को सौभाग्यशाली मानते हैं। किन्तु ऐसा नहीं है, हाथों पर शंख का निशान भी कई संकेत देता है। शंख विजय का सूचक माना जाता है। ये प्रभु श्री विष्णु को भी अति प्रिय है। कहा जाता है कि जिस मनुष्य की अंगुलियों में शंख का निशान हो वो जिंदगी जिस मुकाम को पाना चाहता है, उसे जरूर ही प्राप्त करता है। कई बार अंगुलियों के अतिरिक्त हथेली पर भी शंख का निशान होता है, इसके भिन्न मायने होते हैं। जानिए इन संकेतों के बारे में…
1. हथेली के ठीक बीचोंबीच में शंख होना बहुत शुभ कहा जाता है। ऐसे मनुष्य भाग्यशाली माने जाते हैं तथा जिंदगी में तमाम सुख तथा वैभव प्राप्त करते हैं। 2. हथेली में तर्जनी अंगुली के मूल में गुरु पर्वत होता है। अगर इस जगह पर शंख का निशान हो तो मनुष्य समाज में बहुत मान-सम्मान तथा प्रतिष्ठा प्राप्त करता है। 3. हथेली में मध्यमा अंगुली के मूल में शनि पर्वत कहा जाता है। यदि इस भाग पर शंख बना हो तो मनुष्य तंत्र-मंत्र तथा वेदों का ज्ञाता माना जाता है। 4. अनामिका अंगुली के मूल में सूर्य पर्वत होता है। इस जगह पर जिनके शंख का निशान होता है, वे अपने करियर में बहुत उच्च पदों पर जाते हैं। प्रशासनिक सेवाओं में बड़े पद हासिल करते हैं। 5. कनिष्ठिका अंगुली के मूल में बुध पर्वत होता है। इस जगह पर शंख का निशान होने पर मनुष्य देश-विदेश में व्यापार करके बहुत धन कमाता है। 6. अंगूठे के मूल में शुक्र पर्वत होता है। इस जगह पर शंख का निशान होने पर मनुष्य की जिंदगी में भौतिक सुखों की कमी नहीं होती। 7. यदि शंख का निशान अंगुली के पोरों पर बना हो तो ऐसे इंसान उच्च शिक्षा को हासिल करते हैं तथा उच्च पदों पर पहुंचते हैं। किन्तु ध्यान रहे कि हाथ के किसी भी भाग में शंख तभी शुभ फलदायी होता है जब वो पूर्ण तौर पर साफ बना हुआ हो तथा कहीं से टूटा अथवा कटा हुआ न हो। शंख के निशान के अंदर क्रॉस का निशान भी उचित नहीं माना जाता।
घर से निकलते समय मिले ये संकेत तो समझ जाइए मिलेगा धन लाभ
भगवान शिव पर क्यों चढ़ाया जाता है बेलपत्र और जल, जानिए इसका महत्व

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …