आज है कृष्ण चतुर्थी, जानिए आज का पंचांग और शुभ मुहूर्त

आज के समय में लोग अपने दिन की शुरुआत पंचांग देखकर करते हैं और ऐसे में आज हम लेकर आए हैं आज का पंचांग.

1 अप्रैल का पंचांग-

चैत्र कृष्ण चतुर्थी, बृहस्पतिवार, विक्रम संवत् 2077।
राष्ट्रीय मिति चैत्र 11, शक संवत् 1943
सौर चैत्र मास प्रविष्टे 19, शब्बान 18, हिजरी 1442।
सूर्य उत्तरायण, उत्तर गोल, बसन्त ऋतु:।
चन्द्रमा दिन रात वृश्चिक राशि पर संचार करेगा।
चतुर्थी तिथि पूर्वाह्न 11 बजे तक उपरांत पंचमी तिथि का आरंभ
विशाखा नक्षत्र प्रातः 07 बजकर 22 मिनट तक उपरांत अनुराधा नक्षत्र का आरंभ।
सिद्धि योग अर्धरात्रोत्तर 02 बजकर 46 मिनट तक उपरांत व्यतीपात योग का आरंभ
बालव करण पूर्वाह्न 11 बजे तक उपरांत तैतिल करण का आरंभ।

सूर्योदय 1 अप्रैल : सुबह 06 बजकर 11 मिनट पर।
सूर्यास्त 1 अप्रैल : शाम 06 बजकर 39 मिनट पर।

आज का शुभ मुहूर्तः
अभिजित मुहूर्त दोपहर 12 बजे से 12 बजकर 50 मिनट तक।
विजय मुहूर्त दोपहर 02 बजकर 30 मिनट से 03 बजकर 20 मिनट तक रहेगा।
गोधूलि बेला शाम 06 बजकर 27 मिनट से 06 बजकर 51 मिनट तक।
अमृत काल रात को 7 बजकर 48 मिनट से 9 बजकर 16 मिनट तक रहेगा।
निशीथ काल मध्‍यरात्रि 12 बजकर 1 मिनट से 12 बजकर 48 मिनट तक।
सर्वार्थ सिद्धि योग योग सुबह 7 बजकर 22 मिनट से अगले दिन सुबह 5 बजकर 19 मिनट तक।
ब्रह्म मुहूर्त अगले दिन सुबह 4 बजकर 38 मिनट से 5 बजकर 24 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः
यमगंड सुबह 6 बजे से 7 बजकर 30 मिनट तक रहेगा।
गुलिक काल सुबह 9 बजे से 10 बजकर 30 मिनट तक रहेगा।
राहुकाल दोपहर 1 बजकर 30 मिनट से 3 बजे तक।

दिन का चौघड़िया
शुभ (वार वेला) – 06:22 बजे से 07:54 बजे तक
रोग – 07:54 बजे से 09:26 बजे तक
उद्बेग – 09:26 बजे से 10:58 बजे तक
चर – 10:58 बजे से 12:30 बजे तक
लाभ – 12:30 बजे से 14:02 बजे तक
अमृत – 14:02 बजे से 15:34 बजे तक
काल (काल वेला) – 15:34 बजे से 17:06 बजे तक
शुभ (वार वेला) – 17:06 बजे से 18:38 बजे तक

रात का चौघड़िया
अमृत – 18:38 बजे से 20:06 बजे तक
चर – 20:06 बजे से 21:34 बजे तक
रोग – 21:34 बजे से 23:02 बजे तक
काल – 23:02 बजे से 00:30 बजे तक
लाभ (काल रात्रि) – 00:30 बजे से 01:58 बजे तक
उद्बेग – 01:58 बजे से 03:26 बजे तक
शुभ – 03:26 बजे से 04:53 बजे तक
अमृत – 04:53 बजे से 06:21 बजे तक

मोर पंख के है कई लाभ, इस तरह करें उपयोग, पैसो की नहीं होंगी समस्या
राशि के अनुसार करें मंत्र जाप, मां विष्णुप्रिया करेंगी धन वर्षा

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …