जीवन में पानी है सफलता, तो इन बातों को जरूर जाने लें….

भगवान राम सदैव सत्य के मार्ग पर चले और नैतिकता और सदाचार को अपनाया. भगवान राम के हृदय में सभी के लिए करूणा और प्रेम था. इसीलिए वे सभी के प्रिय हैं. भगवान राम ने हर जिम्मेदारी को बाखूबी अंजाम दिया है. रामायण का अध्ययन करने पर ज्ञात होता है कि भगवान राम विपत्ति आने पर कभी बिचलित नहीं होते हैं. वे हर समस्या का हल खोजने पर विचार और मंथन करते हैं. लंकापति रावण से जब युद्ध की बात आती है तो भगवान राम कतई नहीं घबराते हैं. रावण की सेना अति विशाल थी. अस्त्र-शस्त्र भी अपार थे. लेकिन भगवान राम इससे घबराए नहीं और वानरों की सेना से ही शक्तिशाली रावण को पराजित कर दिया.
भगवान राम के जीवन से प्ररेणा मिलती है कि लक्ष्य यदि बड़ा है तो घबराना नहीं चाहिए. व्यक्ति को सकारात्मक ढंग से सोच विचार कर आगे बढ़ते रहना चाहिए. आत्मविश्वास से बड़े लक्ष्य को प्राप्त किया जाता है. इसलिए भगवान राम की इन बातों को आप भी अपने जीवन में उतार लें. विपत्ति आने पर घबराएं नहीं मुकाबला करें भगवान राम के चरित्र से हर व्यक्ति को इस बात को जानना और समझना चाहिए कि विपत्ति आने पर डरना नहीं चाहिए. जो व्यक्ति परेशानी आने पर घबरा जाते हैं और हौंसला खो देते हैं. ऐसे लोगों को सफलता प्राप्त नहीं होती है. सफल होने के लिए चुनौतियों का डटकर मुकाबला करना चाहिए. सभी से प्रेम करों, सभी को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करों भगवान राम के जीवन से सबसे बड़ी सीख यही मिलती है सभी से प्रेम करो. प्रेम में ही जीवन का आनंद छिपा है. जो व्यक्ति प्रेम की शक्ति को नहीं पहचानते है वे सदा ही अपने लक्ष्य और सच्चे सुख से वंचित रहते हैं. वहीं जो प्रेम की शक्ति को जानते हैं वे सभी के हृदय में रहते हैं. संकट आने पर ऐसे व्यक्ति के साथ सैंकडों लोग खड़े होते हैं. जो लोग अपने सहयोगियों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं उनकी प्रतिभा की सराहना करते हैं ऐसे लोगों के लिए जीवन में कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होता है.
इस दिन है पाप मोचनी एकादशी, जानिए व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
इस दिन है सोमवती अमावस्या, जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और इसका महत्व

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …