जानें कौन-सा काम किस दिन करने से मिलेगी सफलता, इस हिसाब से शुरू करें काम

देश में अधिकतर लोग शुभ मुहूर्त में किसी नए काम का आरम्भ करते हैं। किन्तु यदि आप किसी पंडित से कांटेक्ट नहीं कर पा रहे हैं, आपको राशि अथवा नक्षत्र दिखवाने का अवसर प्राप्त नहीं हो पा रहा है या फिर आपके पास पंचांग नहीं है तो भी आपको परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। ज्योतिर्विद शैलेंद्र पांडेय कह रहे हैं कि किस दिन कौन-सा नया काम आरम्भ करना चाहिए। यदि आप खाने-पीने से जुड़े काम आरम्भ करना चाहते हैं, जैसे कि यदि आप रेस्टोरेंट या मिठाई की दुकान खोलने की प्लानिंग कर रहे हैं, पानी से जुड़ा काम जैसे कि मिनरल वॉटर का काम करना चाहते हैं तो ये सोमवार के दिन आरम्भ करना आपके लिए बेहद शुभ होगा। सोमवार के दिन आरम्भ करने से आपको इसके बेहतर नतीजें प्राप्त होंगे।

वही यदि आप जमीन, मकान या फिर निर्माण संबंधी कोई काम करना चाहते हैं तो मंगलवार के दिन इसका आरम्भ करना आपके लिए सबसे अच्छा रहेगा। धन के लेन-देन, शेयर बाजार अथवा फिर कंसल्टेंसी मतलब सलाह देने का कोई काम आरम्भ करना है तो इसके लिए बुधवार का दिन शुभ होगा। बुध का संबंध धन से होता है इसलिए इस दिन धन से संबंधित काम करने के बेहतर नतीजें प्राप्त होते हैं। शिक्षा, धार्मिक कार्य तथा अनाज से संबंधित कोई काम शुरू करना है तो बृहस्पतिवार का दिन आपके लिए सबसे अच्छा रहेगा। बृहस्पतिवार के दिन ये काम आरम्भ करने से ये काम बहुत लंबे वक़्त तक चलता है तथा इसके नतीजें भी अच्छे मिलते हैं।

शुक्र को कला, प्रतिभा तथा सौन्दर्य का कारक माना जाता है। यदि आप सौंदर्य प्रसाधन, कपड़ा, रसायन, दवा अथवा फिर पार्लर आरम्भ करना चाहते हैं तो शुक्रवार के दिन इस काम का आरम्भ करें। जो भी काम आप लंबे वक़्त तक चलाना चाहते हैं जैसे कि यदि आप कोई नौकरी लंबे वक़्त तक करना चाहते हैं या फिर लंबे वक़्त तक कोई बिजनेस चलाना चाहते हैं तो इसका आरम्भ शनिवार के दिन करना आपके लिए शुभ रहेगा। लकड़ी का काम, हॉस्पिटल, पद ग्रहण या फिर कोई भी राजकीय काम रविवार के दिन करना चाहिए। सूर्य का संबंध शासन, सत्ता, लकड़ी तथा सरकारी चीजों से होता है। इसलिए ये सारे काम रविवार को आरम्भ करें।

इन चीजों को घर में रखने से कभी नहीं होती है धन की कमी
कल है मासिक शिवरात्रि, जानिए महत्व

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …