अक्षय तृतीया: जानिए इस दिन सोना खरीदना क्यों माना जाता है शुभ

सनातन धर्म में अक्षय तृतीया का दिन बहुत ही शुभ एवं महत्वपूर्ण माना जाता है. वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया कहते हैं. यह दिन अत्यंत शुभ होता है, क्योंकि इस दिन अबूझ मुहूर्त होने के कारण हर तरह के शुभ कार्य किये जा सकते हैं.
हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल {2021 में} वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि 14 मई 2021, दिन शुक्रवार को पड़ रही है. ऐसी मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन दान देने से दोगुना फल की प्राप्ति होती है. इसके अलावा सनातन धर्म ने यह भी माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदना शुभदायक और लाभदायी होता है. अक्षय तृतीया के दिन क्यों खरीदा जाता है सोना धार्मिक मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन जुटाए गए भौतिक संसाधन हमारे जीवन में हमेशा बने रहते है. चूंकि इस दिन अबूझ मुहूर्त होने से कोई भी शुभ कार्य या नया कार्य कर सकते हैं. इसलिए अक्षय तृतीया के दिन लोग नए काम की शुरुआत करने के साथ ही बर्तन, सोना, चांदी और अन्य कीमतीं वस्तुओं की खरीदारी करते हैं. माना जाता है कि इस दिन खरीदा गया सोना पीढ़ियों के साथ बढ़ता जाता है. यह भी मान्यता है कि इस दिन सोना खरीदने से सुख-समृद्धि की अपार वृद्धि होती है, घर-परिवार में सदैव खुशहाली बनी रहती है. धार्मिक मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन सूर्य की किरणें बहुत तेज होती है. सोने का संबंध सूर्य से होता है, इस लिए अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदना शक्ति और ताकत का प्रतीक माना जाता है. अक्षय तृतीया 2021 का शुभ मुहूर्त एवं तिथि इस बार अक्षय तृतीया 14 मई 2021 दिन शुक्रवार को  है. यह 14 मई को सुबह 5:38 बजे से शुरू होकर 15 मई 2021 को सुबह 07:59 बजे तक रहेगी. इस समय तक आप सभी शुभ कार्य कर सकते हैं. पूजा विधि अक्षय तृतीया के दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करके अक्षत, पुष्प, धूप-दीप और नैवेद्य से सूर्य देव की पूजा की जाती है. मान्यताओं के अनुसार अक्षय तृतीया पर गंगा नदी में स्नान करने से भक्त को सभी पापों से मुक्ति मिलती है.
चैत्र नवरात्रि: दूसरे दिन जरूर करें मां ब्रह्मचारिणी की यह पावन आरती
चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारणी की करें पूजा, जानिए विधि, भोग और माँ का स्वरूप

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …