जया एकादशी व्रत पारण का समय जरूर रखें ध्यान

हिंदू पंचांग के अनुसार 20 फरवरी 2024 को आज जया एकादशी का व्रत है। भगवान विष्णु के निमित्त आज व्रत रखा जाता है। यह व्रत अनंत वैभव सुख और मोक्ष प्रदान करने वाला माना जाता है। जिस प्रकार इस व्रत को रखने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। उसी प्रकार जया एकादशी व्रत का पारण करना भी पूजा पद्धति के नियम में जरूरी माना जाता है। यदि जया एकादशी व्रत को रखने के बाद इसका सही समय पर पारण नहीं किया जाता है, तो व्रत का फल नहीं मिलता।

शास्त्रों में बताया गया है कि जो लोग एकादशी का व्रत रखने के बाद उसका सही समय पर पारण नहीं करते। अर्थात व्रत को नियमित रूप से नहीं खोलते हैं तो उन्हें पाप लगता है। ऐसे में हिंदू पंचांग के अनुसार जानिए जया एकादशी व्रत का पारण कब किया जाएगा और कतनी देर तक रहेगा व्रत खोलने का मुहूर्त।

जया एकादशी व्रत पारण का समय

  • जया एकादशी व्रत का पारण-  21 फरवरी 2024 दिन मंगलवार 
  • व्रत पारण का समय- 21 फरवरी 2024 दिन मंगलवार को सुबह 6 बजकर 55 मिनट से लेकर सुबह 9 बजकर 11 मिनट तक।

जया एकादशी व्रत पारण करने से पहले जानें ये जरूरी बात

पूजा पद्धति के अनुसार किसी भी एकादशी का व्रत रखने के बाद उसका सही समय पर पारण करना जरूरी होता है। अन्यथा व्रत का फल प्राप्त नहीं होता और इससे दोष लग जाता है। शास्त्रों में जया एकादशी की महिमा के बारे में बहुत कुछ बताया गया है। यह व्रत हर मार्ग पर विजय प्राप्त कराने वाला है। यदि इसके व्रत का पारण सही समय पर नियमित ढंग से कर लिया जाए, तो व्यक्ति के मन की सभी मनोकामनाएं श्री हरि कृपा से पूर्ण हो जाती हैं। जया एकादशी व्रत के पारण के समय सबसे पहल स्नान कर लें। फिर संभव हो तो आस-पास के किसी विष्णु मंदिर में जाएं और भगवान विष्णु से हाथ जोड़ प्रार्थना करें। इसके पश्चात जरूरतमंद लोगों या फिर मंदिर में श्रद्धानुसार दान-पुण्य करें या आप गौ को गुड़ या रोटी खिला दें। इसके बाद आप हरि नाम का जाप करते हुए उनके प्रसाद से अपना जया एकादशी व्रत का पारण मुहूर्त अनुसार कर लें। इस प्रकार आपका जया एकदाशी का व्रत पूर्ण माना जाएगा।

 फाल्गुन माह में कब है द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी? 
प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव को लगाएं ये भोग

Check Also

शीघ्र विवाह के लिए गुरुवार के दिन करें ये उपाय

ज्योतिषियों की मानें तो कुंडली में गुरु ग्रह के कमजोर होने पर विवाह में बाधा …