भगवान शिव के भोग में शामिल करें ये चीजें

मासिक शिवरात्रि का व्रत बहुत खास माना जाता है। यह (Masik Shivratri 2024) भगवान शिव की पूजा के लिए समर्पित है। वैशाख माह में मासिक शिवरात्रि 06 मई को मनाई जाएगी। इस खास अवसर पर भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा की जाती है। साथ ही शुभ फल की प्राप्ति के लिए व्रत भी किया जाता है। पूजा के अंत प्रभु को प्रिय चीजों का भोग लगाना चाहिए।

मासिक शिवरात्रि का पर्व भगवान शिव को समर्पित है। हर माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। वैशाख माह में यह त्योहार 06 मई को मनाया जाएगा। इस खास अवसर पर भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा की जाती है। साथ ही शुभ फल की प्राप्ति के लिए व्रत भी किया जाता है। पूजा के अंत प्रभु को प्रिय चीजों का भोग लगाना चाहिए। मान्यता है कि प्रभु को भोग लगाने से जीवन में खुशियों का आगमन होता है और धन का लाभ मिलता है।

भगवान शिव के प्रिय भोग (Bhagwan Shiv Ke Bhog)

  • मासिक शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को सफेद बर्फी का भोग लगाएं। माना जाता है कि सफेद बर्फी का भोग लगाने से घर में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। साथ ही नकारात्मकता से छुटकारा मिलता है।
  • इसके अलावा भगवान शिव के भोग में आप दही, दूध और पंचामृत शामिल कर सकते हैं। माना जाता है कि इन चीजों का भोग लगाने से कुंडली में चंद्रमा मजबूत होता है।
  • अगर आप अपनी मनचाही मनोकमनाएं पूरी करना चाहते हैं, तो मासिक शिवरात्रि पर महादेव को सूजी या आलू का हलवा का भोग लगाएं। मान्यता है कि हलवा का भोग लगाने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।
  • भगवान शिव को धतूरा और भांग प्रिय हैं। मासिक शिवरात्रि के दिन पूजा के दौरान प्रभु को धतूरा और भांग लगा सकते हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि महादेव को शहद का भोग लगाने से ग्रह शांत होते हैं। ग्रहों की स्थिति ठीक होने से ग्रहों से शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं।
  • अगर आप जीवन में आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं, तो ऐसे में प्रभु को सूखे मावे का भोग लगाएं। माना जाता है कि इससे आर्थिक तंगी में सुधार होता है।

भोग मंत्र (Bhog Mantra)

त्वदीयं वस्तु गोविन्द तुभ्यमेव समर्पये। गृहाण सम्मुखो भूत्वा प्रसीद परमे

कालाष्टमी के दिन करें काल भैरव देव के 108 नामों का मंत्र जप
01 मई का राशिफल

Check Also

 कब है वट सावित्री पूर्णिमा व्रत?

वट सावित्री पूर्णिमा व्रत बेहद महत्वपर्ण माना जाता है। यह तीन दिनों का उपवास होता …