कब है अक्षय तृतीया?

ज्योतिषियों की मानें तो इस वर्ष 10 मई को अक्षय तृतीया है। इस दिन शुभ मुहूर्त प्रातः काल 04 बजकर 17 मिनट पर शुरू होगी और 11 मई को देर रात 02 बजकर 50 मिनट पर समाप्त होगी। अतः 10 मई को अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। इस दिन पूजा हेतु शुभ समय प्रातः काल 05 बजकर 33 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 18 मिनट तक है।

सनातन धर्म में अक्षय तृतीया तिथि का विशेष महत्व है। इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है। साथ ही सोने की खरीदारी की जाती है। आसान शब्दों में कहें तो स्वर्ण से निर्मित आभूषण अक्षय तृतीया तिथि पर खरीदे जाते हैं। यह पर्व हर वर्ष वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। ज्योतिषियों की मानें तो अक्षय तृतीया पर शादी, सगाई, विदाई, वाहन और मकान क्रय समेत सभी शुभ कार्य किये जा सकते हैं। इसके लिए किसी ज्योतिष सलाह की आवश्यकता नहीं होती है। अतः अक्षय तृतीया को स्वयंसिद्ध मुहूर्त भी कहा जाता है। इस दिन सोना खरीदना बेहद शुभ होता है। अगर आप भी अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने की सोच रहे हैं, तो खरीदारी के लिए सही समय जरूर नोट कर लें।

शुभ मुहूर्त

ज्योतिषियों की मानें तो इस वर्ष 10 मई को अक्षय तृतीया है। इस दिन शुभ मुहूर्त प्रातः काल 04 बजकर 17 मिनट पर शुरू होगी और 11 मई को देर रात 02 बजकर 50 मिनट पर समाप्त होगी। अतः 10 मई को अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। इस दिन पूजा हेतु शुभ समय प्रातः काल 05 बजकर 33 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 18 मिनट तक है। इस दौरान धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा उपासना कर सुख-समृद्धि एवं धन वृद्धि की कामना कर सकते हैं।

सोना खरीदारी हेतु समय

वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर सुकर्मा योग बन रहा है। इस योग का निर्माण दोपहर 12 बजकर 08 मिनट से हो रहा है, जो दिन भर है। साथ ही रवि योग का भी संयोग बनेगा। इस दिन प्रातः काल 05 बजकर 33 मिनट से सुबह 10 बजकर 37 मिनट तक सोने की खरीदारी कर सकते हैं। दोपहर के समय में 12 बजकर 18 मिनट से लेकर 01 बजकर 59 मिनट तक सोना खरीदने हेतु शुभ समय है। जबकि, संध्याकाल में 09 बजकर 40 मिनट से रात 10 बजकर 59 मिनट तक शुभ समय है।

कालाष्टमी पर राशि अनुसार करें भगवान शिव का अभिषेक
मासिक जन्माष्टमी पर करें भगवान श्रीकृष्ण के 108 नामों का मंत्र जप

Check Also

संकष्टी चतुर्थी पर जरूर करें गणेश नामावली का पाठ, खुल जाएंगे तरक्की के रास्ते

किसी भी शुभ या मांगलिक कार्य से पहले गणेश जी को विशेष रूप से याद …