मोहिनी एकादशी पर किए गए ये उपाय दिलाएंगे बेशुमार धन और सफलता

मोहिनी एकादशी (Mohini Ekadashi 2024) पर भगवान श्री हरि की पूजा का विधान है। वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी तिथि को मोहिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है जो इस साल 19 मई को मनाई जाएगी। ऐसा माना जाता है जो जातक इस उपवास का पालन करते हैं उन्हें सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही घर में समृद्धि बनी रहती है।

एकादशी तिथि सबसे शुभ दिनों में से एक है। यह दिन भगवान विष्णु की पूजा के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। वैशाख मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी तिथि को मोहिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है, जो इस साल 19 मई, 2024 को मनाई जाएगी। ऐसी मान्यता है कि जो लोग इस दिन का उपवास रखते हैं उन्हें सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही घर में बरकत बनी रहती है, तो आइए इस दिन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों को जानते हैं –

मोहिनी एकादशी पर करें ये उपाय

कष्ट समाप्ति के लिए

मोहिनी एकादशी पर तुलसी के सामने शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं। इसके बाद ‘ॐ श्री तुलस्यै विद्महे। विष्णु प्रियायै धीमहि। तन्नो वृन्दा प्रचोदयात्।’ मंत्र का जाप भाव के साथ करें। फिर तुलसी के वृक्ष की 11 बार परिक्रमा करें। इस उपाय को करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। साथ ही जीवन का हर कष्ट समाप्त होता है।

विवाह में देरी के लिए

जिन लोगों के विवाह में देरी हो रही है उन लोगों को मोहिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु को पीले फूल चढ़ाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस उपाय को करने से शादी में आ रही सभी अड़चने दूर होती हैं। साथ ही जीवन में खुशियां आती हैं। हालांकि इस उपाय को करते समय इस बात का ध्यान दें कि राहुकाल का समय न चल रहा हो।

सुख-समृद्धि के लिए

मोहिनी एकादशी के शुभ अवसर पर यदि आपके द्वार पर गाय या कोई भी पशु-पक्षी आते हैं, तो उन्हें कुछ न कुछ जरूर खिलाएं। ऐसा करने से माता लक्ष्मी खुश होती हैं और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। ऐसा कहा जाता है कि मोहिनी एकादशी पर किसी की भी मदद करने से जीवन में शुभता आती है। इसलिए कोशिश करें घर आए जीव-जन्तुओं को भूलकर भी न भगाएं।

 धन और वैभव के लिए करें इस ग्रह को प्रसन्न
अक्षय तृतीया पर इस तरह करें कुबेर जी को प्रसन्न

Check Also

यहां स्थित है शयन मुद्रा में भगवान बुद्ध की प्रतिमा

विश्व की सबसे बडी शयन मुद्रा में भगवान बुद्ध की प्रतिमा बिहार के गया जिले …