शनि दंड देने में किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं करते: धर्म

सही या गलत कर्म का फल देना शनि के हाथ में ही है इसलिए शनि ग्रह को कर्म का कारक माना गया है. शनि ग्रह को कुंडली में दशम भाव और अष्टम भाव के साथ साथ आजीविका और मृत्यु का कारक माना गया है. यही वजह है कि कुंडली में शनि के शुभ स्थान पर न होने पर व्यक्ति को रोजगार मिलना बहुत ही मुश्किल हो जाता है. मान्यताओं के अनुसार शनि गलती करने पर दंड देने में किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं करते हैं.

श्रीगणेश की कृपा से हर संकट दूर हो जाता: धर्म
भगवान गणेश से जुड़ा रहस्य: स्वास्तिक

Check Also

आप सभी श्री राम भक्तों को मकर संक्रांति की ढेर सारी शुभकामनाएं। 🌹🙏🏻🌹

इन चीजों के साथ इस विधि से शिव-पार्वती की करे पूजा, मनवांछित पायेंगे वरदान, दूर …