30 अगस्त को है पोला, है किसानों का प्रमुख पर्व

आप सभी को बता दें कि हर साल मनाया जाने वाला पोला का त्यौहार इस बार 30 अगस्त को है. ऐसे में पोला का त्योहार बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाने वाला है और इसकी तैयारियां शुरू हो गईं हैं. वैसे इस त्यौहार को किसानों के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है और भाद्रपद मास की अमावस्या को मनाया जाने वाले इस त्यौहार के दिन खरीफ फसल के दूसरे चरण का कार्य (निंदाई कोड़ाई ) पूरा होने के साथ फसलों के बढ़ने की खुशी में मनाया जाता है। इस दिन पंडितों ने पूजा करने का शुभ मुहूर्त मध्य काल के समय बताया है और इसी के साथ अब लोगों ने जमकर तैयारी शुरू कर दी है।

आप सभी जानते ही होंगे कि भारत की आधी से ज्यादा आबादी कृषि पर निर्भर करती है इसी वजह से पोला पर्व को पूरा देश हर्षोल्लास के साथ मनाता है। पोला पर्व के दिन लोग अपने बैलों के लिए घुंघरू और गले के पट्टे खरीद लेते हैं ताकि उन्हें सजा कर उसकी पूजा कर सकें. जी हाँ, इस पर्व के दिन सुबह से ही ग्रामीण अपने घरों की साफ सफाई करते हैं और वह अपने बैलों को नहलाते हैं और रंग बिरंग के कलर लगाकर बैलों को सजाते हैं। इसी के साथ मिट्टी के बने बर्तन और बैल की खरीद कर उसकी पूजा करते हैं।

कहा जाता है पोला पूजा में सबसे महत्वपूर्ण पारंपरिक पकवान चिला का इस्तेमाल भोग के तौर पर किया जाता है। वहीं पूजा पूरी होने के बाद बच्चे मिट्टी के बैल की दौड़ करते हैं और ग्रामीण अपने बैलों की दौड़ करता है.

चाणक्य नीति
31 अगस्त से मुहर्रम मास, जानिए क्या है इसका इतिहास

Check Also

जानिए आखिर क्यों रमजान के पाक महीने में रखा जाता है रोजा, क्या है महत्व….

इस समय त्योहारों का समय चल रहा है वही इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, नौवां माह …