गणपति बप्पा की स्थापना इस समय अपने घर में करें और इन बातों का ध्यान रखे

आप सभी को बता दें कि आज 2 सितंबर है और ऐसे में आज गणेश चतुर्थी है. आज चतुर्थी तिथि सूर्योदय से प्रारंभ होकर रात्रि 1:00 बजे तक रहने वाली है. वहीं सुबह 7:23 से 8:57 बजे तक- इस अवधि में राहु काल रहेगा अतः गणपति प्रतिमाओं की स्थापना ना करें। उसके बाद 11:39 से दोपहर 12:29 बजे तक- मध्यान्ह काल एवं अभिजीत का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त और दोपहर 2:09 से दोपहर 2:59 बजे तक- विजय मुहूर्त अपराहन 3:12 से 4:45 बजे तक- लाभ नामक चौघड़िया में सायंकाल 4:45 से 6:19 तक- अमृत नामक चौघड़िया सायंकाल 6:07 से सायंकाल 6:31 बजे तक- गोधूलि मुहूर्त है. ऐसे में इस दौरान अपने घर पर आप बप्पा को ला सकते हैं. आइए जानते हैं क्या-क्या करना है.

1- गणपति की प्रतिमा को घर में लाने से पूर्व उनके ऊपर लाल वस्त्र दाल दें.
 2- गणपति प्रतिमा का मुख् अपने मुख् की ओर हो, पीठ नहीं ध्यान रखे.
 3- गणपति प्रतिमा का घर के या पंडाल के मुख्य द्वार पर पहुंचते ही आरती आदि से उनका स्वागत करें.
 4- आज चतुर्थी के दिन सिर्फ मध्यान काल में गणपति प्रतिमा की स्थापना करें.
 5- गणपति प्रतिमाओं की स्थापना डेढ़ दिन, 3 दिन, 5 दिन अथवा 10 दिन के लिए कर सकते हैं.
 6- स्थापित गणपति प्रतिमाओं पर प्रतिदिन 21 दूर्वा 21 मोदक एवं 21 की संख्या में शमी पत्र चढ़ाना लाभदायक होगा.
7- यदि आपने घर में गणपति प्रतिमा की स्थापना की है तो उस दौरान घर में कभी ताला नहीं लगाना चाहिए.
 8- घर में गणपति की स्थापना सदैव उत्तर या पूर्व दिशा की ओर करें भूलकर भी दक्षिण या नैरतय त्कोण में गणपति स्थापित नहीं करना चाहिर और गणपति की सूंड दाई या बाईं गणपति की प्रतिमाओं को स्थापित करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखे. 

बप्पा की स्थापना के बाद गणेश चतुर्थी पर यह आरती जरूर करें
खबर पढ़कर किसी को भी नही होगा यकीन, इस मंदिर में प्रवेश करते महिलाओं का हो जाता है ऐसा बुरा हाल...

Check Also

राहु के तीन खास नक्षत्रों का इन तीन राशियों पर होता है सबसे ज्यादा प्रभाव

राहु ग्रह न होकर ग्रह की छाया है। ग्रहों की छाया का हमारी जिंदगी में …