घर में गलती से भी इस जगह न रखें एक्वेरियम, पैसों की होगी किल्लत!

प्राचीन काल से मछली पालन को बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि घर में मछली रहने से कभी भी धन की कमी नहीं होती है। शायद यही वजह है कि बड़े-बड़े राजा महाराजा अपने कोठी में मछलियों के लिए तालाब बनवाया करते थे। वही परम्परा आज भी लोग निभा रहे हैं बस उसका तरीका बदलता जा रहा है। आज जगह की कमी होने के चलते बड़ी तादाद में लोग अपने घरों में ही एक्वेरियम को रखना पसंद करते हैं। इसके घर की सुंदरता तो बढ़ती ही है साथ ही साथ घर आये मेहमानों का ध्यान भी खींचता है।

घर में एक्वेरियम रखने से काफी तरह के फायदे भी होते हैं। वास्तुशास्त्र में एक्वेरियम के बारे में बताया गया है कि इसे यदि सही स्थान पर रखा जाये तो इससे पूरे घर में खुशहाली बनी रहेगी। लेकिन अगर गलती से भी इसे गलत जगह रख दिया तो कंगाली की स्थिति भी बन सकती है।

बेडरूम में गलती से भी न रखें एक्वेरियम

वास्तुशास्त्र के मुताबिक एक्वेरियम को कभी भी बेडरूम और किचन में नहीं रखना चाहिए। हर युवा अपने करियर को लेकर काफी चिंतित रहता है। वह पढाई में मेहनत करने के साथ साथ कई बार वास्तुशास्त्र का भी सहारा लेता है। वास्तु शास्त्र में बताया गया है की एक्वेरियम को घर के उत्तर और पूर्व दिशा में रखने से खुशहाली रहेगी और करियर में ग्रोथ भी दिखेगी।

इस जगह रखने से दूर होगा तनाव

तनाव दूर करने में वास्तुशास्त्र अहम् भूमिका निभाता है। माना जाता है कि एक्वेरियम को प्राकृतिक रोशनी के नीचे रखने से तनाव दूर होता है। इसके अलावा लाल और काली रंग की मछली रखने से खुशहाली आती है। वहीं, कोशिश करनी चाहिए कि एक्वेरियम में 9 मछलियां ही रखी जाए।

 

एक्वेरियम से सम्बंधित जरूरी बातें

एक्वेरियम में पानी को कुछ कुछ समय में बदलते रहें। इससे पानी साफ़ रहेगा और मछलियों को भी नुकसान नहीं पहुंचेगा। एक्वेरियम में फ़िल्टर और ठण्ड में हीटर की भी सुविधा रखनी चाहिए।

मछलियों को खाना देते वक़्त ख़ास ध्यान रखें। कभी भी ज्यादा खाना न डालें। वहीं, मछलियों के लिए आने वाला खाना ही प्रयोग में लायें।

श्राद्ध में की गई ये गलतियां कर सकती हैं पूर्वजों को नाराज, बनती हैं परेशानियों का कारण
सपनों में महिलाओं के दिखने के होते हैं अलग संकेत, जानें क्या

Check Also

आध्यात्मिक ज्ञान के जरिये से समझिये ब्रह्म और माया के बीच का रहस्य

माया मनुष्य के जीवन का आधार है। संसार में जो दिखता है, वह सब माया …