फाल्गुन मास हुआ शुरू, मौसम गर्म होने लगता है और सर्दी की होती है विदाई

हिंदू पंचाग का आखिरी महीना फाल्गुन मास होता है। इसके अलावा इसको फागुन मास भी कहा जाता है। इस माह के बाद हिंदू नववर्ष का प्रारंभ हो जाता है।इसके अलावा हिंदू पंचाग के मुताबिक नववर्ष का पहला महीना चैत्र और आखिरी फाल्गुन होता है। इस साल फाल्गुन का महीना 10 फरवरी सोमवार से प्रारंभ हो रहा है, जिसका समापन 9 मार्च को होगा। इसके अलावा इस दौरान कई बड़े त्यौहार और तिथियां होगी और उन तिथि त्यौहारों पर देवी-देवता की आराधना की जाएगी। वही इस मास के प्रारंभ होते ही मौसम गर्म होने लगता है और सर्दी की विदाई होने लगती है।

वही फाल्गुन मास में बसंत ऋतु का समय होता है इसलिए चारों और छटा काफी निराली होती है। वही फाल्गुन मास में महादेव का प्रिय त्यौहार महाशिवरात्रि आता है। वही इसके साथ ही रंगों का त्यौहार होली भी इसी महीने आता है। इसके अलावा महाशिवरात्रि पर जहां शिव पूजा का विशेष विधान है तो होली के अवसर पर देश का हर कोना रंगों से सराबोर रहता है। वही शास्त्रोक्त मान्यता है कि फाल्गुन मास की पूर्णिमा को महर्षि अत्रि और देवी अनुसूया से चंद्रमा की उत्पत्ति हुई थी। इस कारण इस दिन चंद्रमा की विशेष आराधना कर चद्रमा से मनोकामना पूर्ति की प्रार्थना की जाती है।

वही फाल्गुन मास की द्वादशी तिथि का भी विशेष महत्व है। यदि फाल्गुन द्वादशी श्रवण नक्षत्र युक्त हो तो इस दिन भगवान विष्णु की आराधना करने से उनकी कृपा मिलती है।फाल्गुन मास की पूर्णिमा को दक्षिण भारत में उत्तिर नाम का मंदिरोत्सव मनाया जाता है। वही फाल्गुन कृष्ण अष्टमी को देवी लक्ष्मी और सीता की विशेष पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है। इसके अलावा  फाल्गुन मास में सामान्य जल से स्नान करना चाहिए। भोजन हल्का लेना शुरू करना चाहिए। अनाज कम और फल ज्यादा खाना चाहिए। उत्तम वस्त्र धारण कर सुंगध का प्रयोग करें।इसके  तामसिक आहार से परहेज करें और नशे का त्याग करें। भगवान श्रीकृष्ण की आराधना विभिन्न तरह के सुगंधित फूलों से करें।

यह है वो स्थान जहा हुआ था शिव-पार्वती का विवाह
शिव का पंचाक्षर मंत्र 'ॐ नमः शिवाय' के जाप से होगी सभी मनोकामनाएं

Check Also

यह होता है मूर्ति खण्डित होने का मतलब,जानिए उसके बाद क्या करना चाहिए

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि मूर्ति खण्डित हो गई …