चंद्रदेव को आयी थी गणेश जी के रूप पर हंसी, मिला था ये श्राप

गणेश चतुर्थी का पर्व हर साल मनाया जाता है और इस साल अब यह खत्म होन वाला है. जी दरअसल 1 अगस्त को गणेश विसर्जन है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं गणेश जी और चंद्र देव की कथा. आइए बताते हैं.

गणेशजी ने चंद्र को दिया था शाप : शिवपुराण में बताया गया है कि प्राचीन समय में भादौ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि पर गणेशजी का जन्म हुआ था. इस वजह से चतुर्थी तिथि पर गणेशजी के लिए विशेष पूजा – पाठ किया जाता है. एक अन्य मान्यता के अनुसार गणेशजी ने शिवजी को पार्वती से मिलने से रोका था. वे अपनी माता पार्वती की आज्ञा का पालन कर रहे थे. पार्वती ने कहा था कि किसी को भी मेरे कक्ष में आने मत देना. जब शिवजी को गणेशजी ने रोका तो शिवजी क्रोधित हो गए और अपने त्रिशूल से गणेशजी का सिर धड़ से अलग कर दिया. जब पार्वती को ये बात मालूम हुई तो उन्होंने शिवजी से गणेशजी को पुन: जीवित करने के लिए कहा. तब शिवजी ने गणेशजी के धड़ पर हाथी का सिर लगा दिया और उन्हें जीवित कर दिया.

इसके बाद एक दिन चंद्र गणेशजी का ये स्वरूप देखकर हंस रहे थे. गणेशजी ने चंद्र को देख लिया. चंद्रदेव को अपने सुंदर स्वरूप का घमंड था. तब गणेशजी ने चंद्र को शाप दिया कि अब तुम धीरे – धीरे क्षीण होने लगोगे. ये शाप सुनकर चंद्र ने गणेशजी से क्षमा मांगी. तब गणपति ने कहा कि ये शाप निष्फल तो नहीं जा सकता , लेकिन इसका प्रभाव कम हो सकता है. तुम चतुर्थी का व्रत करो. इसके पुण्य से तुम फिर से बढ़ने लगोगे. चंद्रदेव ने ये व्रत किया. इसी घटना के बाद से चंद्र कृष्ण पक्ष में घटता है और फिर शुक्ल पक्ष में बढ़ने लगता है.

क्या आप जानते हैं शनि देव और गणेश जी की इस कथा के बारे में...
जानिए क्यों मनाई जाती है अनंत चतुर्दशी, क्या है पूरी व्रत कथा

Check Also

महाभारत: इस कारण तीरों की शैया पर भीष्म को पड़ा था सोना, कर्म कभी नहीं छोड़ते पीछा

जीवन में कभी भी बुरे कर्म न करें अन्यथा किसी न किसी जन्म में कर्मफल …