जानिए कब है पापांकुशा एकादशी, इस व्रत करने वालों को पाप से मिलती है मुक्ति

आश्विन शुक्ल पक्ष दशहरे के बाद पड़ने वाली एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहा जाता है। यह एकादशी इस साल आज यानी 26 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से लग रही है, और यही कारण हैं कि कल यानी 27 अक्टूबर को ही एकादशी का व्रत रखा जाएगा। इस व्रत का पारण ठीक अगले दिन यानी 28 अक्टूबर को किया जा सकता है। कहा जाता है इस एकादशी का व्रत करने वालों को पाप से मुक्ति मिलती है। जी दरअसल यह एकादशी का व्रत रखा जाए तो पिछली पीढ़ीयों के पाप सारे नष्ट हो जाते हैं। इसी के साथ कहा जाता है कि इस दिन भगवान पद्मनाभ की पूजा करने से भी बड़े लाभ होते हैं।

जी दरअसल एकादशी व्रत पर सुबह के समय उठकर भगवान विष्णु का ध्यान करना चाहिए क्योंकि यह बड़ा ही शुभ होता है। कहा जाता है इस दिन स्नान और दान करने से सभी कष्ट कट जाते हैं। कहते हैं इस दिन श्रद्धा और भक्ति भाव से भगवान विष्णु की पूजा कि जाए तो सब सुख मिल जाते हैं और सारे विवाद, कष्ट खत्म हो जाते हैं। वैसे अगर सम्भव हो तो इस दिन ब्राह्मणों को दान करना चाहिए। ध्यान रहे एकादशी व्रत में खास तौर पर चावल का सेवन बिल्कुल भी नहीं करें। जी दरअसल यह व्रत फलाहारी व्रत है इस कारण चावल नहीं खाना चाहिए।

एकादशी तिथि कब से कब तक 
एकादशी तिथि प्रारंभ: 26 अक्तूबर 2020 सुबह 09:00 बजे
एकादशी तिथि समाप्त: 27 अक्तूबर 2020 सुबह 10:46 बजे
व्रत पारण  28 अक्तूबर 2020 : सुबह 08:44 बजे तक

आइये जाने भगवद्गीता की ये आठ महत्वपूर्ण बातें
जानिए 27 अक्टूबर का पंचांग शुभ और अशुभ मुहूर्त

Check Also

शिव जी की पूजा करने से मंगल ग्रह की दूर होती है अशुभता, इस मंत्र का करें जाप

महाशिवरात्रि का पर्व विशेष महत्व रखता है. भगवान शिव की पूजा से सभी प्रकार की …