राशि के अनुसार करें विश्वकर्मा पूजा, तो बिजनेस में मिलती ही जाएंगी आपको कामयाबी

जिसकी सम्पूर्ण सृष्टि और कर्म व्यापार है वह विश्वकर्मा है। सहज भाषा मे यह कहा जा सकता है कि सम्पूर्ण सृष्टि में जो भी कर्म सृजनात्मक है, जिन कर्मो से जीव का जीवन संचालित होता है, उन सभी के मूल में विश्वकर्मा है। ऐसे में भगवान विश्वकर्मा का पूजन जहां प्रत्येक व्यक्ति को प्राकृतिक उर्जा देता है, वहीं कामकाज में आनी वाली सारी अड़चनों को दूर करता है।

मेष:
आप के राशि का स्वामी मंगल उच्च का है जिसके कारण पूजा आपके लिए विशेष शुभप्रद कही जाएगी। आज के दिन को और शुभकारी बनाने हेतु केसरिया रंग का वस्त्र धारण कर पूजन करावे।

वृष:
आज के दिन पूजन कराते समय यह सुनिचित करे कि भगवान विश्वकर्मा के जप पाठ के बाद श्री कुबेर जी की 11माला जप अवश्य हो जाये। इससे आपकी चल रही ढैय्या की नकारात्मकता न्यून हो जाएगी।

मिथुन:
आज आप कलश स्थापना के लिए जो रंगोली बनाएं उसमें हरे रंग की अधिकता रखे। भगवान गणपति के शतनाम के पाठ के बाद विश्वकर्मा पूजन कराएं और केला गरीबो में बंटवाएं।

कर्क:
आप के लिए यह वर्ष सभी प्रकार से कल्याणकारी परिणाम प्रदान करने वाला साबित होगा। आज भगवान शिव का आशीर्वाद विश्वकर्मा पूजन में प्राप्त करने हेतु गरीबो में सफेद अन्न का वितरण करें।

सिंह:
आज आप स्नान करने के बाद भगवान भास्कर को जल अवश्य दें। जल में रोली, लाल फूल, व गुड़ डालना न भूलें। निश्चित तौर पर भगवान विश्वकर्मा जी की पूजा मंगलकारी सिद्ध होगी।

कन्या:
आज के दिन चंद्रमा जो आप के लाभ का स्वामी है, सुख स्थान पर रहेगा। जिसके कारण पूजा से आपके सभी मनोरथ सिद्ध होंगे और काम-काज में वृद्धि होगी। नया रोजगार प्रारंभ होगा।

तुला:
राशि से पराक्रम भाव का शनि आप के सभी अवरोध को स्वतः समाप्त करने वाला कहा जायेगा। राशि से चतुर्थ मंगल यांत्रिक कार्यो, निर्माण यंत्र से विशेष लाभ देने वाला कहा जायेगा। विश्वकर्मा पूजन से आपको विशेष लाभ प्राप्त होगा।

वृश्चिक:
आपके लिए यह विश्वकर्मा पूजा दिवस कार्यक्षेत्र में सफलता देने के साथ-साथ विदेश से संबंधित व्यवसाय में नए रास्ते खोलेगी। पूजा के समय कलश स्थापना लाल रंग की रंगोली पर करें और साबुत लाल मसूर गाय को खिलाएं।

धनु:
पूजा के समय चंद्रमा आपकी राशि पर होगा व बृहस्पति राशि से लाभ भाव मे आकर पुराने सभी बाधाओं को समाप्त करेगा। भगवान विश्वकर्मा की पूजा का विशेष लाभ पाने के लिए श्री गणेश, महादेव व गौरी को वस्त्र अर्पित करें।

मकर:
बीते साल की कठिनाईयों और संघर्ष से मुक्ति पाने के लिए इस साल विधिवत विश्वकर्मा पूजा करें। साथ ही साथ यह भी सुनिश्चित करें कि पवित्र गायत्री मंत्र के साथ कल-कारखाने व सभी उपकरण की शुद्धि हो जाये।

कुम्भ:
पूजन पर बैठने के लिए कुश की आसनी पर बैठने का प्रबंध करें तथा पारिजात के फूल को भगवान विश्वकर्मा को अवश्य अर्पित करें। इस प्रयोग से सभी नकारात्मक शक्तियां समाप्त हो जाएंगी।

मीन:
यद्यपि आपके राशि की नकारात्मकता अभी भी समाप्त नहीं हुई है। लेकिन इस बार विश्वकर्मा पूजा साधना-अराधना कर भगवान विश्वकर्मा के साथ-साथ श्री नारायण का आशीर्वाद अवश्य ग्रहण करें। बाधाएं दूर होंगी और शुभ परिणाम निकलेंगे।

भगवान श्रीराम की कथा और इतिहास
जानिए कब खाए राम ने शबरी के जूठे बेर

Check Also

देवउठनी एकादशी 2020 : पूजा की 17 बातें बहुत जरूरी हैं आपके लिए

कार्तिक माह भगवान विष्णु का महीना माना गया है। इस महीने में खासतौर पर विष्णु पूजन …