दशहरा के दिन रावण की पूजा की जाती

मंदसौर का असली नाम दशपुर था और यह रावण की पत्नी मंदोदरी का मायका था. ऐसे में मंदसौर रावण का ससुराल हुआ. इसलिए यहां दामाद के सम्मान की परंपरा के कारण रावण के पुतले का दहन करने की बजाय उसकी पूजा की जाती है.

करें ये दिव्य उपाय, दूर होंगी सभी समस्याएं: होलाष्टक
सजती थीं बादशाह की महफिलें: 'ईद-ए-गुलाबी

Check Also

जानिए क्या कहती हैं भोलेनाथ के मस्तक पर बनी तीन रेखाएं…

हर साल आने वाला महाशिवरात्रि का पर्व इस साल भी आने वाला है। यह पर्व शिवभक्तों के …