भूलकर भी न करें इस तरह गायत्री मंत्र का जप, जानें 7 खास बातें

गायत्री मंत्र का जप सूर्योदय से दो घंटे पूर्व से लेकर सूर्यास्त से एक घंटे बाद तक किया जा सकता है। मौन मानसिक जप कभी भी कर सकते हैं लेकिन रात्रि में इस मंत्र का जप नहीं करना चाहिए। माना जाता है कि रात में गायत्री मंत्र का जप लाभकारी नहीं होता है
सफलता के लिए रोज़ाना घर से करके निकले यह टोटका...
12 जुलाई से चातुर्मास आरम्भ, चार महीने तक ना करें ये काम, शुभ कार्यों में लगेगी रोक

Check Also

अमृत की वर्षा : शरद पूर्णिमा पर चांद की रोशनी से पूरी पृथ्वी जगमगा जाती है

इस वर्ष शरद पूर्णिमा 30 अक्तूबर को मनाई जाएगी। हिंदू पंचांग के अनुसार अश्विन मास …