महिषासुर राक्षस और भैंस का बेटा था, पढ़े पूरी खबर

आप सभी ने पुराणों की कई कहानिया सुनी और पढ़ी होंगी. जो अलग अलग भगवानों से जुड़ी होंगी. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं महिषासुर के बारे में जो एक असुर था। जी हाँ, कहा जाता है महिषासुर के पिता रंभा राक्षसों के राजा थे और उन्हें एक बार पानी में रहने वाली एक भैंस से प्यार हो गया. कहा जाता है इसी के योग से महिषासुर का आगमन हुआ। आपको बता दें कि महिषासुर अपनी इच्छानुसार भैंस और मनुष्य का रूप धारण कर सकता था। अब आज हम आपको बताते हैं उसके बारे में.

महिषासुर- महिषासुर सृष्टिकर्ता ब्रह्मा का बहुत बड़ा भक्त था. कहा जाता है ब्रह्माजी ने उसे उपहार दिया था कि कोई भी देवता या दानव उसे जीत नहीं सकता। वहीं उसके बाद ही महिषासुर ने धीरे-धीरे स्वर्ग के देवताओं को पीड़ित करना शुरू कर दिया था और वह पृथ्वी पर भी प्रहार करता था. एक बार महिषासुर ने अचानक स्वर्ग पर आक्रमण किया और इंद्र को हराकर स्वर्ग अपने नाम कर लिया. उसके बाद सभी देवताओं ने दुखी होकर देवता त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और महेश्वर से मदद मांगी. वहीं सभी देवताओं ने मिलकर एक बार फिर से महिषासुर को हराने के लिए युद्ध किया, लेकिन, देवताओं को फिर से हार मिली।

कहा जाता है उसके बाद देवी-भगवती को जन्म लेना पड़ा क्योंकि उनका अत्याचार अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँच गया। आपको पता हो उनके इस रूप को महिषासुर मर्दिनी कहा जाता था क्योंकि इसी रूप में उन्होंने महिषासुर का अंत किया था. जब देवी प्रकट हुईं तो भगवान शिव ने उन्हें त्रिशूल देवी कह दिया. वहीं भगवान विष्णु ने भी देवी को चक्र दे दिया. ऐसे सभी देवी-देवताओं ने देवी के हाथों को विभिन्न प्रकार के हथियारों से सजाया। इसी के बाद महिषासुर का अंत हुआ था.

सावन के महीने में हर सोमवार को ये कथा पढने से मिलती है लम्बी आयु
क्या आप जानते है क्यों शिव के गले में है नागराज वासुकी

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …